रास्ते में बोलते रहे बदमाश, तेरे घर वाले पैसे देंगे तो छोड़ देंगे नहीं तो हमारे साथ रहना

 

इंदौर. हीरा नगर इलाके से रविवार दोपहर 3 बजे अगवा हुए किराना व्यापारी के छह वर्षीय बेटे अक्षत जैन को बदमाश सोमवार को करीब 6 बजे सागर जिले के बरोदिया में सडक़ पर छोडक़र भाग निकले। पुलिस को अक्षत के पास से एक पर्ची मिली जिस पर उसके पिता रोहित जैन का मोबाइल नंबर था। पुलिस ने तत्काल उस पर संपर्क किया और वीडियो कॉल के जरिये परिवार से अक्षत की बात कराई। इसके बाद करीब 27-28 घंटों से गमगीन जैन परिवार की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। इसके बाद वे बच्चे को थाने ले आए। इंदौर पुलिस रात करीब 10 बजे अक्षत को लेकर रवाना हो गई।

डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया, फिरौती के लिए आए फोन नंबर (8756380955) से जिन नंबरों पर बात हुई वे अधिकतर सागर के पास मेहरोनी के थे। इस पर पुलिस टीम ने वहां घेराबंदी की और मोबाइल सिम धारक नीलेश व चार अन्य को हिरासत में लिया। तभी पुलिस को बरोदिया के पास एक घर में अक्षत को रखे जाने की जानकारी मिली। पुलिस टीम वहां के लिए रवाना हुई। इसी बीच आरोपियों को संदेहियों के धरपकड़ की जानकारी मिली तो वे भागे। संभवत: रास्ते में पुलिस की नाकाबंदी देख वे घबरा गए और उन्होंने बच्चे को छोडऩे का निर्णय लिया। पुलिस बालक को बरोदिया में छोडक़र भागे बाइक सवार बदमाशों के बारे में जानकारी जुटा रही है, लेकिन साथियों के पकड़े जाने के बाद भूमिगत होने से उनका पता नहीं चला है।

चारों बातें करते रहे पैसे मिलने पर छोड़ देंगे

अक्षत ने पुलिस को बताया कि चारों रास्ते में बात कर रहे थे कि पैसे मिल जाएंगे तो इस बच्चे को छोड़ देंगे। पैसे मिलने के बाद फ्लैट खरीदने की भी बात आपस में कर रहे थे। जब मैं रोने लगा तो उन्होंने कहा, तेरे घर वाले पैसे दे देंगे तो तुझे छोड़ देंगे वरना तू हमारे साथ ही रहना। सोमवार सुबह से चारों आरोपियों ने बच्चे को एक घर में रखा था बाद में दो लोग उसे बाइक से एक सडक़ पर छोडक़र चले गए थे। पुलिस का कहना है बच्चा घबराया हुआ है इसलिए घर पहुंचने के बाद परिजन के साथ उससे घटना की जानकारी ली जाएगी।

जब बच्चे ने पूछा पापा आप कब आ रहे हैं

प्रभारी टीआई से सीएसपी ने वाट्सऐप पर वीडियो कॉल कर अक्षत की परिजन से बात कराई। अक्षत ने पूछा, पापा आप कब आ रहो हो। तो उन्होंने जल्दी ही उसे लेने आने को कहा। बच्चे को देखकर पूरा परिवार खुशी से झूम उठा। बाहर मौजूद लोगों ने तालियां बजाकर खुशी जाहिर की। इसके बाद पुलिस अफसर भी घर पहुंचे और परिजन को बताया कि वहां इंदौर पुलिस की एक टीम मौजूद है। उस टीम ने बच्चे को अपने साथ लिया फिर सागर में उसका मेडिकल कराया गया। इसके बाद टीआई तुकोगंज तहजीब काजी उसे लेकर इंदौर के लिए निकले।

WhatsApp chat