दाती महाराज को दिल्ली की साकेत अदालत से यौन शोषण के मामले में जमानत मिल गई

 

 

दुष्कर्म के आरोपों से घिरे देश की राजधानी के शनिधाम के संस्थापक दाती महाराज को दिल्ली की साकेत अदालत से यौन शोषण के मामले में जमानत मिल गई| अदालत ने पुलिस द्वारा दाखिल आरोप-पत्र के मद्देनज़र आरोपी दाती महाराज की जमानत याचिका को मंजूर कर लिया|

दाती महाराज के खिलाफ होगी सीबीआई जांच

मामले में अदालत ने दाती महाराज को सशर्त जमानत दी है| उन्हें देश छोड़कर नहीं जाने व साक्ष्यों व गवाहों से छेड़छाड़ न करने की हिदायत दी गई है| बीते वर्ष एक 25 वर्षीय युवती ने आरोप लगाया था कि वह पिछले 10 साल से दाती महाराज की अनुयायी है| दाती महाराज ने शनिधाम स्थित आश्रम में उसके व दो अन्य अनुयायी युवतियों के साथ बलात्कार किया|

दाती महाराज ने किया सरेंडर

गौरतलब है कि फरार आरोपी दाती महाराज ने 19 जून 2018 में चाणक्यपुरी क्राइम ब्रांच में सरेंडर कर दिया था था, लेकिन वे सोमवार से ही फरार थे| पुलिस इस मामले में दाती महाराज और उसके भाइयों के पोटेंसी टेस्ट भी करवा चुकी है, जिसके परिणाम पॉजिटिव निकले थे। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, क्राइम ब्रांच ने तीन महीने तक लगातार जांच के बाद जुटाए गए सबूतों के आधार पर दाती और उसके भाइय़ों के खिलाफ केस दर्ज किया था।

गैर जमानती वारंट होगा जारी

पुलिस ने दाती महाराज के खिलाफ दुष्कर्म, अप्राकृतिक शारीरिक संबंध और धमकाने के आरोपों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। पुलिस ने दाती के तीन भाइयों अशोक, अर्जुन और अनिल को भी आरोपी बनाया है। इसके साथ ही पुलिस ने दो आश्रमकर्मी महिलाओं श्रद्धा पुरी उर्फ नीतू और मीना जोशी को भी आरोपी के तौर पर नामज़द किया है।

दाती महाराज पर उन्हीं की एक शिष्या ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है| पीड़िता का आरोप है कि महाराज के दिल्ली और राजस्थान स्थित आश्रमों में उनका यौन उत्पीड़न किया गया| हालांकि पुलिस को पीड़िता के बयानों में विरोधाभास नज़र आया था|

 

WhatsApp chat