चलते……..चलते……….चलते……….

नरसिंहपुर जिले में जब कभी संवेदनाओं की प्रकट करने की बात आती है तो जिला आगे रहता है कठुआ गेंगरेप व अन्य के विरोध में ज्ञापन/केंडिलमार्च/श्रंद्धांजलि की गयी पर दिल्ली में बेटी से छेडछाड का विरोध करने पर ध्रुव त्यागी की हत्या कर दी गयी। इसके हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा मिलना चाहिए। पर जिले की संवेदनाओं एक प्रकार से ताला ही लग गया है तथाकथित सेकुलर कहने वाले लोग चुप है सोशल मीडिया पर कुछ लोग तो जिले में राष्ट्रीय चिंतन को प्रमुखता देते हैं वे भी दूसरे वर्ग के लोगों पर हुए अन्याय पर चुप है ना कोई विरोध में ज्ञापन,केंडिल मार्च,श्रृद्धांजलि कुछ भी संवेदना व्यक्त नहीं की गयी है। जो आग दिल्ली में लगी है वह हमारे यहां नहीं लगेगी? समय का चक्र अपने समानुपात से घूमता है अन्याय की खिलाफत नहीं करोगों तो कल इसकी चपेट में सब आयेंगें। फिर मत कहना कि समय रहते चेत जाते तो ये दिन नहीं देखना पडते।

WhatsApp chat