चैनल पर कांग्रेस के पक्ष में प्री-पोल सर्वे दिखाया तो संदीप से रोहित के रिश्ते बिगड़े

कारोबारी संदीप तेल की हत्या को एक बड़ी साजिश के तहत अंजाम दिया गया है। इस हत्याकांड के पीछे 19 करोड़ के लेन-देन के विवाद के अलावा न्यूज चैनल में तेजी से बड़ रहा उसका हस्तक्षेप भी एक बड़ी वजह होना पता लगा है।

ये बात भी सामने आई थी कि एसआर मप्र चैनल से संदीप को किसी मंत्री की सिफारिश के बाद चैनल के डायरेक्टर रोहित सेठी ने इसलिए हटा दिया था क्योंकि संदीप ने बतौर डायरेक्टर रहकर चुनाव के पूर्व एक सर्वे की न्यूज चला दी थी जिसमें कांग्रेस को 115 से 120 सीटें जीतकर सरकार बनाने की बात थी।

इसी के बाद से उसके चैनल के डायरेक्टर्स से विवाद शुरु हो गए थे और अलग होने के बाद वह चैनल में निवेश किये 19 करोड़ रुपये वापस मांग रहा था। हालांकि पुलिस अभी हत्या के पीछे का मूल कारण तलाश रही है। अधिकारियों की माने तो हत्याकांड को अंजाम देने वाले आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद ही असल कहानी सामने आएगी। पुलिस को गोली चलाने वाले आरोपियों से जुड़े अहम सुराग मिले हैं। जल्द आरोपियों को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा करने की बात भी अधिकारी बोल रहे हैं।

डीआईजी ने बताया- कुछ अहम सुराग मिले : डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया कि कारोबारी संदीप तेल की हत्या करने वाले आरोपियों के अहम सुराग मिले हैं। पुलिस ने लसूड़िया इलाके के तलावली चांदा में कार पार्क करने वाले एक आरोपी की पहचान कर ली है।

वहीं गोली मारने वाले आरोपियों की भी जानकारी मिल गई हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए कुछ टीमें शहर से बाहर गई है। फिलहाल हत्या के पीछे चैनल में निवेश किए गए 19 करोड़ रुपये वापस लेने और चैनल में वर्चस्व बढ़ने की बात सामने आ रही है। पुलिस का पहला टारगेट गोली चलाने वाले आरोपियों को पकड़ना है उनकी गिरफ्तारी के बाद ही षड्यंत्रकारी या सुपारी देने वाले आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।

ये भी वजह हो सकती है हत्याकांड के पीछे : बताते हैं जिस रोहित सेठी के साथ संदीप ने एसआर मप्र चैनल पार्टनर बनकर ज्वाइन किया था। उसका एक चैनल भोपाल में भी संचालित है इसमें भाजपा शासन काल में मंत्री रहे एक नेता का पैसा भी लगा था।

जब चुनाव आचार संहिता भी नहीं लगी थी तब संदीप इंदौर में एसआर मप्र चैनल में रोहित की अनुपस्थिति में एक न्यूज प्रसारित करवाई थी कि प्रदेश में कांग्रेस की 115 से 120 सीटें मिल रही हैं। इसको लेकर संदीप और रोहित में काफी बहस हुई थी।  न्यूज पर भोपाल के चैनल के पार्टनर ने इंदौर से चली न्यूज पर बड़ी आपत्ति ली थी तो रोहित ने इंदौर आकर संदीप तेल से काफी बहस की थी।

ड्राइवर ने की थी मदद  : बाहर से आए बदमाशों को इंदौर के ही लोकल व्यक्ति ने रास्ता बताने और घटना स्थल से भागने में मदद की थी। पुलिस उस व्यक्ति तक पहुंच गई है जिसने तलावली चांदा में बदमाशों की कार सड़क किनारे पार्क की थी। पता चला है कि लोकल ड्राइवर की मदद से कार संदीप के ऑफिस तक गलियों से होकर घटना स्थल आई थी।

WhatsApp chat