Election Update: शिवराज सरकार ने खोला वादों का पिटारा

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव हेतु भाजपा ने शनिवार को अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया। भाजपा ने घोषणा-पत्र को दृष्टि-पत्र का नाम दिया है। भाजपा को इसके लिए 30 हजार से ज्यादा सुझाव मिले और कई संगठनों के साथ चर्चा करने के बाद दृष्टि पत्र तैयार किया है। महिलाओं के लिए अलग से घोषणा-पत्र जारी किया गया है। इसे नारी शक्ति संकल्प पत्र नाम दिया गया है।
केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली, पेट्रोलियम मंत्री और प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पार्टी के बड़े नेताओं की मौजूदगी में दृष्टि पत्र जारी किए। ये पहला मौका है जब भाजपा किसी एक चुनाव के लिए दो घोषणा-पत्र लेकर आयी है। महिला अपराध को लेकर चौतरफा आरोपों से घिरी पार्टी ने अलग घोषणा पत्र लाकर जता दिया है कि महिला सुरक्षा और प्रगति उसकी प्राथमिकता में है। केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कहा, कांग्रेस शासनकाल में मध्यप्रदेश में जनता के जीवनस्तर को ऊंचा ऊठाने के लिए चर्चा नहीं होती थी। कांग्रेस के जाल से बाहर निकालने का प्रयास यदि किसी राज्य ने किया तो वह है मध्यप्रदेश। आज की स्थिति में 10फीसदी आर्थिक विकास अकल्पनीय है। अरुण जेटली ने कहा, लगातार 20फीसदी कृषि विकास दर हासिल करते हुए मप्र कृषि क्षेत्र में अग्रणी राज्य बन जाए यह कल्पना 2003 में नहीं की जा सकती थी। एक बीमारू राज्य को विकसित कर अन्य विकसित राज्यों की श्रेणी में लाने के लिए शिवराज सिंह चौहान प्रशंसा के पात्र हैं।
भाजपा ने महिलाओं के लिए अलग से एक घोषणा पत्र जारी किया है। जिसे नारी शक्ति संकल्प नाम दिया गया हैं। महिलाओं विरोधी अपराध में मध्यप्रदेश के नंबर-1 होने के कारण शिवराज सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर नहीं है। ऐसे में उसने महिलाओं के लिए अलग से मेनिफेस्टो लाकर खुद को बचाने की कोशिश की है। दृष्टि पत्र में महिलाओं, युवा और किसानों के साथ -साथ हर वर्ग पर फोकस है। आपको बता दें की घोषणा पत्र हेतु भाजपा ने जनता से सुझाव मांगे थे। उसे 30 हज़ार से ज़्यादा सुझाव मिले थे, इनमें से 700 सुझाव को शॉर्ट लिस्ट किया गया।

घोषणापत्र की प्रमुख बाते :
– हर साल 10 लाख रोजगार, स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के प्रयास हम करेंगे। युवा उद्यमियों को स्टार्ट अप की सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे। नए इंडस्ट्रियल टाउनशिप स्थापित करेंगे। व्यापारी कल्याण कोष की स्थापना करने का लक्ष्य रखा।
– एक युग कांग्रेस का था 1993 से 2003 का, जब कांग्रेस गई तो मध्यप्रदेश को बर्बाद और तबाह कर गई थी। लेकिन पिछले 15 सालों में भाजपा ने जो विकास किया, आज कोई नहीं कह सकता कि बीमारू में ‘म’ मध्यप्रदेश का था।
– कृषक समृद्धि योजना हमने बनाई। लेकिन इस योजना से छोटे किसानों को लाभ नहीं मिल पाता, इसलिए छोटे किसान इस योजना के लाभ से वंचित ना रहें इसलिए हमने दृष्टि पत्र में तय किया कि किसानों के अनुपात के अनुसार उनके खाते में राशि डाली जाएगी।
– 12वीं कक्षा में 75 फीसदी से ज्यादा अंक पाने पर कॉलेज जाने वाली छात्राओं को दो-पहिया (स्कूटी) वाहन प्रदान किया जाएगा और इनवाहनों के रजिस्ट्रेशन के शुल्क की प्रतिपूर्ति सरकार द्वारा की जाएगी।
– महिलाओं के सशक्तिकरण में हमने कोई कसर नहीं छोड़ी है। इस बार हमने ‘नारी शक्ति संकल्प पत्र’ प्रस्तुत किया है जिसमें महिला सशक्तिकरण के लिए स्वसहायता समूहों, तेजस्विनी द्वारा स्वरोजगार को अभियान बनाया जाएगा
– नर्मदा एक्सप्रेस वे, चंबल एक्सप्रेस वे और औद्योगिक कॉरीडोर विकसित करने का लक्ष्य हमने निर्धारित किया है, बिजली की क्षमता को 14000 मेगावाट तक हम ले जाएंगे, मेट्रो प्रोजेक्ट प्रस्तावित है। ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल के लिए नलजल योजना।
– मूल्य स्थिरीकारण कोश जो पहले 500 करोड़ रुपये से आरंभ हुआ था इसे बढ़ा कर 2000 करोड़ करने का निर्णय हमने लिया ताकि। बाजार मूल्य गिरने की दशा में किसानों को लाभकारी मूल्य उन्हें मिल सके। सिंचाई का रकबा 80 लाख तक बढ़ाने का लक्ष्य है।
– गांवों में नल के जरिए देंगे पीने का पानी
– महिलाओं के लिए नारी शाक्ति संकल्प पत्र रखा है
– 12 वीं 75 फीसदी अंक लाने वालों को मुफ्त शिक्षा देंगे
– लड़कियों को निशुल्क शिक्षा और वाहन सेवा मुफ्त में उपलब्ध कराए जाएंगे
– नौजवनों को फीस के अभाव में शिक्षा नहीं रूकेगी, मेडिकल कॉलेज की फीस भी देंगे
– स्कील डवलपमेंट विकसित किए जाएंगे
– व्यापारियों के व्यापारी कल्याण बोर्ड का गठन करेंगे
– कर्मचारी कल्याण के लिए वेतन आयोग का गठन करेंगे

WhatsApp chat