निर्दलीय उम्मीदवार ने कहा- चुनाव आयोग या तो 75 लाख दे या किडनी बेचने की मंजूरी

समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता किशोर समरीते बालाघाट से एक निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने चुनाव आयोग से अनुरोध किया है कि वह या तो उन्हें 75 लाख रुपये मुहैया करवाए या फिर उन्हें आगामी चुनाव लड़ने के लिए पैसे इकट्ठा करने को अपनी किडनी बेचने की अनुमति दे।

जिला चुनाव आयोग अधिकारी दीपक आर्य को लिखे पत्र में समरीते ने कहा, ‘भारतीय चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव के लिए खर्च सीमा 75 लाख रुपये तय की है। मेरे पास चुनाव लड़ने के लिए इतनी राशि नहीं है। मैं चुनाव आयोग से अनुरोध करता हूं कि मुझे 75 लाख रुपये दिए जाएं या फिर बैंक को मुझे कर्ज देने के लिए कहा जाए। यदि ऐसा नहीं होता है तो मुझे अपनी एक किडनी बेचने की इजाजत मिले।’

सोमवार को समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए समरीते ने बताया कि उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखा है कि वह चुनाव प्रचार समाप्त होने तक आवश्यक धनराशि एकत्र नहीं कर पाएंगे। उन्होंने कहा, ‘चुनाव प्रचार के लिए केवल 15 दिनों का समय बचा है। मैं इतने कम समय के अंदर इतनी बड़ी राशि जमा नहीं कर पाऊंगा।’

समरीते ने आगे कहा, ‘यही कारण है कि मैंने आयोग से कहा है कि वह मुझे 75 लाख रुपये दे। मेरे खिलाफ चुनाव लड़ रहे सभी उम्मीदवार भ्रष्टाचारी हैं। उन्होंने स्थानीय लोगों से पैसे जमा किए हैं। मैं इस क्षेत्र का विकास करना चाहता हूं और समाज के गरीबों का उत्थान करना चाहता हूं।’

इससे पहले समरीते ने सपा प्रत्याशी के तौर पर बालाघाट जिले के लांजी लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था। मध्य प्रदेश में चार चरणों- 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई और 19 मई को चुनाव होने हैं। वहीं चुनाव के नतीजे 23 मई को सामने आएंगे।

WhatsApp chat