बंगाल में मूर्ति विवाद: जांच के लिए बनी SIT, मोदी बोले- सबूतों को मिटाने का प्रयास कर रही है पुलिस

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति टूटने को लेकर बवाल बढ़ता ही जा रहा है. अब इस मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है. कोलकाता पुलिस ने इस मामले में जल्द से जल्द रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है. एसआईटी में जासूसी विभागके भी अधिकारी शामिल हैं.

पीएम मोदी ने पुलिस पर लगाया सूबत मिटाने का आरोप

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आरोप लगाया है कि पश्चिम बंगाल पुलिस राज्य सरकार के साथ सांठगांठ कर ‘तृणमूल कांग्रेस के गुंडों’ की तरफ से तोड़ी गई मूर्ति की घटना के सबूतों को मिटाने की कोशिश कर रही है. कल पीएम मोदी ने चुनाव आयोग द्वारा राज्य में चुनाव प्रचार के लिए घटाई गई समय सीमा समाप्त होने के कुछ घंटे अपनी चुनाव रैलियों में यह बात कही.

वह घुसपैठियों का हाथ फैलाकर स्वागत करती हैं- ममता

उन्होंने चुनाव आयोग की आलोचना करने के लिए तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि यदि उसने स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित नहीं करवाए होते तो वह कभी वाम दलों को सत्ता से बाहर कर मुख्यमंत्री नहीं बन सकती थीं. राज्य के बीजेपी नेताओं को ‘बाहरी’ करार देने के लिए बनर्जी पर बरसते हुए मोदी ने कहा कि उन्हें उत्तर प्रदेश और बिहार से आने वाले लोगों से समस्या है, लेकिन वह घुसपैठियों का हाथ फैलाकर स्वागत करती हैं.

इस दौरान पीएम मोदी ने दावा किया, ‘‘तृणमूल कांग्रेस के गुंडे हिंसा फैला रहे हैं और उन्होंने विद्यासागर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त किया. जिस तरह से राज्य सरकार ने नारदा और शारदा घोटालों के साक्ष्य मिटाये, उसी तरह से यह इस घटना के साक्ष्य मिटाने का प्रयास कर रही हैं.’’ मोदी ने इस बात पर बल दिया कि प्रतिमा को तोड़ने के कृत्य में शामिल लोगों को ऐसी सजा मिलनी चाहिए जो मिसाल बन सके. उन्होंने कहा, ‘‘तृणमूल कांग्रेस और उनके गुंडों ने बंगाल को एक नरक बना दिया है. जो इस पाप में शामिल हैं उन्हें बड़ी सजा मिलनी चाहिए.

मूर्ति बनवाने के लिए बीजेपी के पैसे की जरूरत नहीं-ममता

मूर्ति तोड़े जाने के बाद एक चुनावी रैली में पीएम मोदी की तरफ वादा किया गया कि विद्यासागर की प्रतिमा उसी स्थान पर लगाई जायेगी, जहां वह स्थापित थी. इसपर ममता ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘मोदी ने वादा किया है कि वह कोलकाता में विद्यासागर की प्रतिमा दोबारा बनवायेंगे. हमें उनसे (बीजेपी) धन क्यों लेना चाहिए, जब बंगाल के पास पर्याप्त संसाधन हैं.’’

ममता ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए दावा किया कि प्रतिमाओं को तोड़ना इस पार्टी की आदत है और यह पार्टी त्रिपुरा में भी ऐसा कर चुकी है. ममता ने कहा,‘बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में 200 साल पुरानी विरासत नष्ट कर दी, जो लोग पार्टी का समर्थन कर रहे हैं उन्हें समाज स्वीकार नहीं करेगा.’’

चुनाव आयोग ने घटाई बंगाल में चुनाव प्रचार की समय सीमा

बता दें कि चुनाव आयोग ने भारत के चुनावी इतिहास में पहली बार संविधान के अनुच्छेद 324 का प्रयोग करते हुए 19 मई को होने वाले मतदात के अंतिम चरण के लिए पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार की समय सीमा को घटा दिया. यह कदम मंगलवार को कोलकाता में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच हुई हिंसा को देखते हुए उठाया है.

कोलकाता में 14 मई को अमित शाह के रोडशो के दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा देखने को मिली थी. इस संघर्ष के दौरान 19 वीं सदी के समाज सुधारक ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ दी गयी थी.

WhatsApp chat