यूनिसेफ, सामाजिक शोध एवं विकास केंद्र के सहयोग से अग्नि सुरक्षा

बंजरिया(पुर्वी चम्पारण)30मार्च19
 यूनिसेफ, सामाजिक शोध एवं विकास केंद्र के सहयोग से  अग्नि सुरक्षा के लिए बंजरिया प्रखंड के युवक, युवतियों और ग्राम आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यों का 29-30मार्च को दो दिवसीय प्रशिक्षण बंजरिया प्रखण्ड के कुकुरजरी स्कूल परिसर में दिया गया। इस अवसर पर सामाजिक शोध एवं विकास केंद्र के अध्यक्ष अमर ने कहा कि हमारी एक छोटी सी भूल या असावधानी के कारण राख से उठने वाली चिंगारी एक भयानक आग का रूप ले लेती है। और देखते ही देखते अनेकों घर खेत-खलिहान ,माल मवेशी तथा हमारी वर्षों की कमाई हमारे ही आंखों के सामने धू धू कर जल कर राख हो जाती है। अगर हम सावधानी बरतें तो निश्चय ही मानवीय भूल या बिजली के शार्ट सर्किट, गैस रिसाव, माचिस की जलती हुई तिल्ली, चूल्हे या घर से निकलने वाली चिंगारी से अपने घर खेत -खलिहान को जलने से रोक सकते हैं। इस मौके पर उन्होंने सभी सम्मानित जनप्रतिनिधियों धर्मगुरुओं ,ग्रामीण महिला एवं युवा संगठनों तथा सचेत नागरिकों से बिहार सरकार के मार्गदर्शिका के अनुरूप ग्रामीण स्तर पर लोगों को अग्नि सुरक्षा पर ब्यापक प्रचार प्रसार करने पर ज़ोर दिया। इस अवसर पर मुख्य प्रशिक्षक संदीप कौशल ने कहा कि बिहार में हमारा जिला अगलगी के खतरनाक जोन में आता है। हम लोगों की सतर्कता और सावधानी से अपने क्षेत्र को अगलगी की घटना को कम से कम कर सकतें हैं। इस प्रशिक्षण में अमीरुल होदा, प्रह्लाद प्रसाद,सदाम हुसैन,भूलन पटेल,बिंदवासिनी प्रसाद,नूर जहाँ खातून,अनिता देवी,प्रमोद कुमार,ज़ाकिर आलम,सुदामा महतो,कमरे आलम,आफताब आलम राही,पप्पू यादव,मीना देवी,नवल सिंह,दरोगा सहनी सहित संस्था के हामिद रज़ा,शिवबालक राय, गिरेन्द्र मोहन ठाकुर ,कृष्णा कुमार, शफी अहमद सहित करीब 150 लोग शामिल हुए।
हामिद रज़ा

WhatsApp chat