83 वी त्रिमूर्ति शिव जयंती पर तमाम बुराइयों और व्यसन को छोड़ने का संकल्प कराया गया।

रामगढवा,15-4-19,(पूर्वी चंपारण),अशोक वर्मा।
एक दशक से ज्यादा समय से संचालित ब्रह्माकमारीज सेवाकेंद्र पर आयोजित 83 वां त्रिमूर्ति शिवजयंती समारोह मे माउंट आबू से पधारे बीके उपेंद्र भाई ने शिव ध्वजारोहण किया।संबोधन में शिव जयंती  के आध्यात्मिक रहस्य पर प्रकाश डालते  हुए कहा कि पतित दुनिया को पावन बनाने हेतु शिव बाबा का अवतरण भारत की भूमि पर प्रत्येक पांच हजार वर्ष पर होता है।नई दुनिया स्वर्ग का निर्माण कर वे परम धाम लौट जाते हैं।उनके  द्वारा किये गए
इस महान कार्य के कारण द्वापर से शिवजयंती मनाना आरंभ होता है।इस कल्प का इनका पावन बनाने का कार्य अब समापन की ओर है।भारत बहुत जल्द विश्व गुरु बनने जा रहा है।उन्होंने कहा कि आज चारो तरफ घोर अंधियारा छाया हुआ है,दुनिया मे दिनोदिन समस्याएं बढती जा रही है,पापाचार अत्याचार और अनाचार परकासष्टा पर है।स्वार्थ ,व्यर्थ और नकारात्मक सोच मे लोग सूख शांति तलाश रहे हैं।अगर परमात्मा से संबंध जोड लें तो सुख शांति की प्राप्ति हीं प्राप्ति है।उक्त अवसर पर मोतिहारी सेवाकेंद्र प्रभारी बीके पूनम बहन ने अपने संबोधन के बाद उपस्थित भाइ बहनो को हाथ उठवाकर संकल्प कराया कि जीवन मे किसी को न दुख देंगे और न दुख लेंगे,कोई व्यसन नहीं लेंगे,माता पिता एवं सभी  का आदर करेंगे ।कभी भी गुस्सा नहीं करेंगे आदि।

WhatsApp chat