आजादी के बाद से अपना मरम्मती व पक्कीकरण के लिए विकास पुरूष व विकासशील सरकार की राह देख रहा बक्सर जिला

 

आजादी के बाद से अपना मरम्मती व पक्कीकरण के लिए विकास पुरूष  व  विकासशील सरकार की राह देख रहा बक्सर जिला का पतरकोना से खण्डरीचा तक कि कच्ची संडक ,जिसकी महज दूरी 1 कि०मी०है। जबकि दोनो गॉव मे पंचायती ब्यवस्था के सर्वोपरी पद भी दशको से है । प्रधानमंत्री व मुख्य मंत्री संडक योजना के अन्तर्गत नही विधायक,सांसद एवं मुखिया का भी आज तक ध्यान हुआ । दुख कि बात है कि खण्डरीचा उच्चतर माध्यमिक विधालय मे पढ़ने आने वाले इस रास्ते से अन्य गॉव के सैकडो लडके -लडकियॉ बरसात मे अक्सर कीचड़ मे गिरते रहते है , जो इस समय विकास के नाम पर शर्म है ,सोचने व करने वाले नेताजी के लिए । दर्शन करे इस मार्ग का ।यहॉ परसागंडा ,बेलहरी पतरकोना तथा अन्य गॉव के लडका-लडकी पढने आते है बहुत कठिनाई का सामना करते है बरसात तो दूर की बात ऐसे भी स्कूली बच्चों को इस रोड से स्कूल साईकिल से आने जाने में बहुत कठिनाई होती है।

बक्सर बिहार से राघव कुमार पाण्डेय की रिपोर्ट

WhatsApp chat