बलरामपुर जिले के कुसमी तहसील में नकल देने रकम मांगता है बाबू -ग्रामिणों से अवैध वसूली

कुसमी(बलरामपुर)- प्रदेश में सरकार भले ही बदल गयी हो और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से लेकर पूरा मंत्रिमंडल सुशासन के चाहे जितने बड़े बड़े दावे कर रहा हो, लेकिन सरकारी दफ्तरों में बाबू व्यवस्था न तो बदली है और न बदलने की कोई सम्भावना दिखाई पड़ रही है। विकासखंड के तहसील कार्यालय में ही पदस्थ एक बाबू द्वारा जमींन सम्बंधित नकल निकालने के लिए ग्रामीणों से खुले आम सेवा शुल्क माँगते वीडियो कैमरे में कैद किया गया है। वही मामले की शिकायत अधिकारी से करने पर तहसीलदार बाबू के खिलाप कार्यवाही करने के बजाए उसी की तरफ दारी कर रहे है, तहसीलदार ने यहाँ तक कह दिया कि ये बाबू का हक बनता है।हम आपको बता दें की नक़ल के नाम पर बाबु ने 100 रुपये मांगे और जब व्यक्ति ने पैसा नही दिया तो साहब आग बबूला हो गए तहसीलदार इरशाद अहमद से इस घूसखोरी की बात करने की कोशिश को गई तो उन्होंने के बड़े ही अटपटे ढंग से कहा की ये बाबू का हक बनता है। यहां तो गरीब जनता से बड़े अधिकारियों के नाम पर किस तरह अवैध तरीके से पैसे की वसूली व सुविधा शुल्क लिया जा रहा है।
अधिकारी क्यों नहीं रोक पा रहे हैं 
बाबुओं की हरकत किसी समय ऐसा माना जाता रहा है कि सरकार अपने अधिकारियों-कर्मचारियों को जो वेतन देती है,फिर भी ऐसा लगता है वे अपने परिवार बडी़ मुश्किल से चला रहे हैं। किसी भी अधिकारी-कर्मचारी को कम वेतन नहीं मिल रहा है।इसके बावजूद जिस तरह से आम लोगों से अवैध रूप से जायज काम के बदले पैसों की मांग की जाती है
च्वाइस सेंटर ,तहसील कार्यालय  में खुली लूट हो रही है। कोई भी प्रमाण पत्र  हो जाति, आय, निवास प्रमाण पत्र हो उसमें ग्रामिणों से अवैध वसूली की जा रही है चाहे व तहसील कार्यालय हो या च्वाइस सेंटर दोनों जगहों पर १००-५०० वसूल ही लिया जाता है।
विधायक चिंतामणी तिवारी ने मामले में कहा अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा किसानो से इस प्रकार अनाधिकृत वसूली  बर्दाश्त नही किया जाएगा। इसके लिए दोषी कर्मियों पर कार्यवाही की जाएगी।साथ ही एसडीएम बालेश्वर राम ने कहा कि अगर बाबू द्वारा नकल के बदले रूपए माँगे है तो ये ग़लत है। मामले की जाँच उपरांत कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat