पुलवामा के बाद गुजरात के लिए अलर्ट जारी, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की सुरक्षा बढ़ाई

गुजरात पुलिस को केंद्रीय इंटेलीजेंस एजेंसी से मिले इनपुट के अनुसार राज्य के महत्वपूर्ण ठिकानों पर आंतकी हमले हो सकते हैं. इसके चलते राज्य में अहम रेलवे स्टेशनों, गुजरात के कोस्टल बॉर्डर, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, धार्मिक स्थलों और सिनेमा घरों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले के बाद अब केंद्रीय इंटेलीजेंस को गुजरात में भी आतंकी हमले के इनपुट मिले हैं. इस बारे में गुजरात पुलिस को जानकारी दे दी गई है.

गुजरात पुलिस को केंद्रीय इंटेलीजेंस एजेंसी से मिले इनपुट के अनुसार राज्य के महत्वपूर्ण ठिकानों पर आंतकी हमले हो सकते हैं. इसके चलते राज्य में रेलवे स्टेशन, गुजरात के कोस्टल बॉर्डर, स्टेच्यू ऑफ यूनिटी, धार्मिक स्थलों और सिनेमा घरों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

पुलवामा में गुरुवार को हुए हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद से खुफिया एजेंसियों को देश के मुख्य शहरों में आतंकी हमलों के अलर्ट मिले हैं. हमले के एक दिन बाद, 15 जनवरी को दिल्ली पुलिस को भी ऐसे ही किसी हमले के बारे में इनपुट मिले थे.

दिल्ली पुलिस को मिले इनपुट के मुताबिक अब आतंकी कश्मीर के बाद दिल्ली और उत्तर प्रदेश का रुख कर सकते हैं. पुलिस को इनपुट मिले थे कि आतंकी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हथियार तस्करों से हथियार खरीद रहे हैं. पुलिस का दावा है कि उसने कुछ महीने पहले उत्तर प्रदेश से हथियार खरीद कर जम्मू-कश्मीर जा रहे कुछ लोगों को दिल्ली में गिरफ्तार किया था. ताजा खुलासा इन्हीं लोगों से पूछताछ में हुआ है. पुलिस का कहना है कि इन लोगों ने बताया है कि ये अमरोहा से हथियार खरीदकर कश्मीर जा रहे थे.

इससे पहले, पुलवामा हमले को लेकर भी कश्मीर पुलिस को 8 फरवरी एक अलर्ट मिला था. राज्य की पुलिस ने इसे सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी जैसे अर्धसैनिक बलों के साथ ही सेना और वायुसेना अधिकारियों को इस अलर्ट के बारे में बताया था. इस अलर्ट में कहा गया था कि आतंकी इन सुरक्षा बलों पर रास्ते में अटैक कर सकते हैं.

यही नहीं, इस अलर्ट में यह भी कहा गया था कि हमला आईईडी धमाके से हो सकता है. इन बलों को आगाह किया गया था कि ये कहीं भी रवाना होने से पहले रास्ते की अच्छी तरह से जांच कर लें. इसके बावजूद सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले में देश को 40 जवानों से हाथ धोना पड़ा था.

WhatsApp chat