ग्वालियर में शून्य हो गई दृश्यता, भोपाल में फ्लाइट नहीं हो पाई लैंड

 पूरे मध्य प्रदेश में आज तड़के से घना कोहरा छाय़ा हुआ है। कोहरे का सबसे ज्यादा असर ग्वालियर-चंबल संभाग में दृश्यता शून्य हो गई। सुबह 6 बजे दृश्यता 3 किमी से घटकर 50 मीटर रह गई। एयरपोर्ट पर दिल्ली-मुंबई से आने वाली फ्लाइट सुबह साढ़े नौ बजे के बाद लैंड हो पाईं। रेल यातायात पर भी इसका असर पड़ा है। कई ट्रेनें देर से चल रही हैं।

मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार ऊपरी सतह (जमीन से 15 किमी ऊपर) में तेज हवा चला रही है। इससे उत्तर भारत में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इससे दिन व रात का तापमान गिरवाट दर्ज की गई है। और घना कोहरा छा गया है।

जानकारी के अनुसार भोपाल में आधी रात के बाद मौसम ने अचानक करवट बदली और और पांच से सात किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलने लगीं। तड़के होते होते घना कोहरा छा गया। एयरपोर्ट पर सुबह छह बजे दृश्यता 50, साढ़े आठ बजे 200 औऱ साढ़े नौ बजे 1000 मीटर दर्ज की गई। दृश्यता बढ़ने के बाद साढ़े नौ बजे के बाद फ्लाइट लैंड हो पाई। वहीं ग्वालियर में कोहरे का सबसे ज्याजा असर देखा जा रहा है। ट्रेनों की रफ्तार थम गई है। कई ट्रेन देरी से चल रही हैं।

सर्द हुआ मौसम:  तीन दिन की राहत के बाद शहर में मौसम का मिजाज फिर सर्द हो गया। वजह यह है कि फ्रीजिंग लेवल इन दिनों 600 मीटर नीचे है। हवा का रुख बदलकर उत्तर-पूर्वी हो गया है। इसका असर यह रहा कि पिछले 48 घंटे में दिन का तापमान 5.2 डिग्री लुढ़क गया। रात के तापमान में भी कमी आई। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जीडी मिश्रा ने बताया कि बुधवार को दिन का तापमान 25.3 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य हो गया। शाम 4 बजे के बाद से ठंडी हवा चलने लगी थी। इसके कारण शाम 5.30 बजे भी तापमान 1.2 डिग्री लुढ़का।

दो वजह…

  • बंगाल की खाड़ी से गर्म हवा आ रही है और दिल्ली, हरियाणा, पंजाब समेत उत्तर भारत में बारिश होने से आ रही नम हवा आपस में मिल रही हैं।
  • साइक्लोनिक सर्कुलेशन 0.9 किमी ऊंचाई पर दक्षिण पूर्व उत्तर प्रदेश और उसके आसपास बना है। साथ ही नया वेस्टर्न डिस्टरबेंस भी पश्चिमी हिमालय रीजन में बना है।

क्या होता है फ्रीजिंग लेवल : आसमान में जहां तापमान शून्य होता है, उसे जमाव बिंदु या फ्रीजिंग लेवल कहते हैं। सामान्य तौर पर इन दिनों इसे 4400 मीटर होना चाहिए, लेकिन इन दिनों यह 3800 मीटर पर ही है। जितनी ज्यादा ठंड होती है, यह उतना नीचे होता है।

WhatsApp chat