भय्यू महाराज आत्महत्या मामला / पुलिस ने सेवादार सोनी के बयान दर्ज किए

 

इंदौर. भय्यू महाराज की आत्महत्या के मामले में खजराना पुलिस ने नए सिरे से जांच बढ़ाते हुए सोमवार के बाद मंगलवार को भी उनके करीबी रहे एक सेवादार के बयान लिए। महाराष्ट्र के आश्रम में रहने वाले दो और लोगों को भी बयान के लिए आने का नोटिस भेजा गया है। इससे पहले सोमवार को पुलिस ने मनमीत अरोरा के बयान लिए थे।

सीएसपी एस एस तोमर के अनुसार मंगलवार को महाराज के सेवादार मनोहर सोनी के बयान दर्ज किए गए। सोनी से भी ड्राइवर कैलाश द्वारा किए गए खुलासे व महाराज के संपर्क में रहने वाली युवती को लेकर सवाल किए गए लेकिन सोनी ने भी कोई नई जानकारी नहीं दी। पूछताछ में मनोहर ने सेवादार विनायक दुधाले को लेकर भी कोई शंका जाहिर नहीं की। पुलिस द्वारा अब भय्यू महाराज के ड्राइवर रहे कैलाश पाटिल के धारा 164 के तहत बयान कराए जाने की तैयारी की जा रही है।

युवती द्वारा महाराज को धमकाए एवं ब्लैकमेल किए जाने के संबंध में पुलिस ने कहा है कि महाराज के परिवार का कोई शख्स युवती की शिकायत करता है तो पुलिस युवती की तलाश कर उससे पूछताछ करेगी।

खुल रहे नए-नए राज
भय्यू महाराज व उनकी पत्नी आयुषी के करीबी रहे वकील राजा उर्फ निवेश बड़जात्या को पांच करोड़ के लिए धमकाने पर एमआईजी पुलिस ने कैलाश पाटिल, सुमित चौधरी और अनुराग रोजिया को पकड़ा था। कैलाश भय्यू महाराज का पूर्व ड्राइवर निकला। पुलिस पूछताछ में उसने कई चौंकाने वाली बातें बताई थीं।

कैलाश ने पुलिस को बताया था कि फूटी कोठी क्षेत्र में रहने वाली एक युवती सेवादार विनायक और शरद के साथ मिलकर महाराज को ब्लैकमेल करती थी। महाराज की आत्महत्या के पहले युवती ने उन्हें कॉल भी किया था।
कैलाश के बयान के बाद पुलिस द्वारा महाराज से जुड़े उनके करीबियों को पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा है। सोमवार को मनमीत अरोरा को बुलाया था। मनमीत ने कैलाश द्वारा बताई गई बातों को फर्जी बताया है।

WhatsApp chat