जल है तो कल है- जल की हर एक बूँद कीमती है

 

गर्मी के भीषण मौसम में जहां एक और सरकारी विज्ञापन चलाकर बताया जाता है की बूंद बूंद पानी बचाया जाए जल है तो कल है मगर वहीं दूसरी ओर विसंगति देखिए नरसिहपुर कार्यालय कलेक्टर कैंटीन के सामने बने हुए सुलभ शौचालय पेशाब घर में जहां की चारों तरफ इतने अधिकारी और कर्मचारी बैठे हुए हैं। जिला मुख्यालय के मगर एक टोटी का इंतजाम नहीं हो पा रहा है और पानी बदस्तूर बहता ही रहता है। और ऐसा नहीं है कि यहां पर आने वाले कर्मचारियों की लोगों की निगाहें ना पड़ती हो यदि इतनी जागरूकता नहीं आती तो फिर टीवी चैनलों में बड़े-बड़े फ्लेक्सों में विज्ञापन चलाने से क्या फायदा संवेदनशीलता हमारे अंदर होनी चाहिए। एक तरफ जिला में कई स्थान ऐसे हैं जहां पानी के भीषण संकट से भी सामना करना पड़ता है। गर्मियों में वहीं दूसरी ओर कुछ स्थान ऐसे होते हैं जहां पानी की कोई कीमत ही नहीं होती पानी को पानी की तरह ही बहा दिया जाता है।

 

मनोज शुक्ला की रिपोर्ट

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat