विधिक जागरूकता शिविर में राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर दी जानकारियां

 

दौसा,24जनवरी। राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर के निर्देशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण दौसा के द्वारा राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर गुरूवार को आदर्श विद्या मंदिर बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय, दौसा में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।
आयोजित शिविर में उपस्थित बालिकाओं को रेखा वधवा, सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण दौसा द्वारा बालिका शिक्षा का महत्व बताते हुये कहा कि एक बालिका के पढ़ने से पूरा परिवार शिक्षित होता है इसलिये बालिकाओं की शिक्षा के लिये केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा विभिन्न योजनायें संचालित की हुयी है।
उन्होंने बाल-विवाह रोकथाम की जानकारी देते हुये बताया कि 18 वर्ष से कम उम्र की बालिका एवं 21 वर्ष से कम उम्र के बालक का विवाह कानूनन अपराध है। ऎसे विवाहों के लिये कानून में सजा का प्रावधान किया हुआ है तथा इसके तहत बाल-विवाह में सम्मिलित होने वाले प्रत्येक व्यक्ति को भी सजा का प्रावधान है। उनके द्वारा कन्या भु्रण हत्या की रोकथाम हेतु बने पीसीपीएनडीटी एक्ट के बारे में जानकारी दी गयी। उन्होंने शिविर में उपस्थित बालिकाओं से आह्वान किया कि यदि किसी बालक के बाल-विवाह आयोजित होने के संबंध में सूचना प्राप्त होती है तो उसकी सूचना तत्काल पुलिस/प्रशासन/न्यायालय को देनी चाहिये ताकि उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जा सके एवं बाल-विवाह रोका जा सके। शिविर में बालिकाओं के संरक्षण के लिये राज्य सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं एवं महिलाओं व बालिकाओ के अधिकारों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की गयी तथा जल संरक्षण के लिये बने उपायों की जानकारी दी गयी।
शिविर में उपस्थित बालिकाओं को विद्यालय के प्रधानाचार्य गिर्राज प्रसाद गुर्जर द्वारा बालिका दिवस के अवसर पर शिक्षा का अधिकार अधिनियम, बाल-विवाह की रोकथाम एवं कन्या भु्रण हत्या की रोकथाम के संबंध में बने कानूनी प्रावधानों के बारे में बताया गया।

-by-kailashsingh

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat