उत्तरप्रदेश में 28 और उत्तराखंड में 12 की मौत, 22 कर्मचारी निलंबित

68 total views, 1 views today

 

  • गांववालों का आरोप- स्प्रिट से बनाई जा रही शराब, अफसरों से लेकर नेताओं तक की मिलीभगत
  • मुख्यमंत्री ने कहा- जिम्मेदारी तय हो, संबंधित पर कार्रवाई के दिए निर्देश

लखनऊ. उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब पीने से 40 लोगों की मौत हो गई। कुशीनगर में 10, सहारनपुर में 18 और रुड़की में 12 की जान गई। करीब दो दर्जन अस्पताल में भर्ती हैं। दोनों मामलों में शुक्रवार को पुलिस और आबकारी विभाग के 22 कर्मचारियों को निलंबित किया गया है। लोगों का आरोप है कि मरने वालों ने स्प्रिट से बनी शराब पी थी।

स्प्रिट से बनाई जा रही थी शराब, इसे नेताओं का संरक्षण

उप्र के जवहि दयाल चैनपट्टी में मंगलवार रात जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई थी। इन लोगों ने गांव के बाहर ईंट भट्ठे पर बनने वाली अवैध शराब पी थी। इसके बाद बीते 72 घंटे में शराब पीने से बीमार हुए सात और लोगों ने दम तोड़ दिया। लगातार हुईं मौतों से गांव में भारी आक्रोश है। गुरुवार को कलेक्टर डॉ. अनिल कुमार सिंह और एसपी राजीव नारायण मिश्रा समेत कई अफसर गांववालों को समझाने पहुंचे। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि पुलिस और आबकारी विभाग की मिलीभगत से इलाके में स्प्रिट से बनी शराब का कारोबार बड़े पैमाने पर हो रहा है। जिसे नेताओं का भी संरक्षण प्राप्त है।

आबकारी इंस्पेक्टर और थाना प्रभारी समेत 9 पर गिरी गाज

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर शुक्रवार को क्षेत्रीय आबकारी निरीक्षक एचएन पांडेय और विभाग के सिपाही प्रहलाद सिंह, राजेश तिवारी, रवींद्र कुमार और ब्रह्मानंद को निलंबित कर दिया गया। उधर पुलिस विभाग में थाना प्रभारी विनय कुमार पाठक, हल्का इंचार्ज भीखू राय और दो सिपाही- कमलेश यादव और अनिल कुमार को निलंबित किया गया है।

Loading...