कुंदरकी एक प्राचीन और ऐतिहासिक बस्ती है साथ ही कुंदरकी बस्ती हमेशा से ही इल्मो अदब का गहवारा रही है

मुरादाबाद
कुंदरकीनगर कुंदरकी एक प्राचीन और ऐतिहासिक बस्ती है साथ ही कुंदरकी बस्ती हमेशा से ही इल्मो अदब का गहवारा रही है हर दौर में अदीब शायर और माहिरे कलम इस सरजमी पर गुजरे हैं आज भी कुंदरकी के नौजवान कुंदरकी की नुमाइंदगी कर रहे हैं और इस बस्ती का नाम देश ही नहीं विदेशों तक में रोशन कर रहे हैं कुंदरकी बस्ती पुरानी यादें भी समेटे हुए हैं जैसा कि ऊपर उल्लेख किया जा चुका है की कुंदरकी एक प्राचीन और ऐतिहासिक बस्ती है इसी तरह से कुंदरकी की ऐतिहासिक करबला भी है इस ऐतिहासिक कर्बला पर होने  होने वाले खास़ मोजिजे  को उत्तर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से प्रकाशित उर्दू वीकली सरफराज के मार्च सन 1969 ईस्वी के खुसूसी सुमारे मोहर्रम नंबर के पेज 74 पर कुछ इस तरह से तहरीर किया गया कि 1857  ईसवी में देश में अंग्रेजो के खिलाफ शुरू किए गए भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान मुरादाबाद जनपद में भी अंग्रेजों ने लूटमार शुरू कर दी थी मई 1857 ईसवी में अंग्रेजों ने कुंदरकी बस्ती पर भी धावा बोलकर लूटपाट करने की योजना बना ली इसकी खबर मिलते ही पूरे कुंदरकी बस्ती में कोहराम मच गया नगर के सभी लोगों ने एकजुट होकर अंग्रेजों से मुकाबला करने की तैयारी कर ली सय्यदों ने अपनी महिलाओं को एक बड़े मकान में जमा कर दिया वहां पर मिट्टी के बड़े मटके में तेल भरकर रख दिया और चार आदमी तैनात कर दिए सभी लोग अंग्रेजों से मुकाबला करने के लिए बस्ती से बाहर आकर बैठ गए सय्यदो ने यह हुकुम दे दिया था कि अगर अंग्रेज हमें मारकर बस्ती में घुस आए तो तेल छिड़क कर  औरतों में आग लगा देना ताकि उनकी इज्जत बच सके औरतो ने आंखों के सामने मौत मंडराती देख कर या हुसैन या अब्बास कर के अल्लाह से दुआ मांगना शुरू कर दी उधर अंग्रेज़ी फौज भी कुंदरकी के करीब आ पहुंची मगर  अंग्रेजों ने देखा कि हरे  कपड़े पहने कुछ लोग  घोड़े पर सवार है उनके हाथों में तलवार हैं, मगर किसी भी सवार के जिस्म पर सिर नहीं है यह मंजर देख कर अंग्रेजों के पैर उखड़ गए और वह बगैर जंग किये  वापस लौट गए अंग्रेजों के लौट जाने  की खबर सुनते ही औरतो ने  अल्लाह का शुक्र अदा किया
अंग्रेजों की तरह उन  सभी लोगों ने देखा था इसलिए सभी के दिलों में यह एहसास पैदा हो गया कि कर्बला के  शहीद हमारी मदद के लिए आए थे फिर क्या था जिस जगह सवारों को खड़ा देखा वहां बस्ती के सभी मर्द औरतें जमा हो गए उस जगह पर खुशबू महकी हुई थी तथा घोड़ों के पैरों के निशान भी मौजूद थे उस जगह को कर्बला के नाम मंसूब कर  दिया गया जो आज भी ऐतिहासिक कर्बला मौजूद है और मोहर्रम और चचेहल्लुम पर हर वर्ष  ताजिए दफन किए जाते हैं उपरोक्त वाक्य का जिक्र कुंदरकी के उस्ताद लेखक  और वरिष्ठ पत्रकार केसर रिज़वी ने 2005 में कुंदरकी की कर्बला 2013 में कुंदरकी की अजादारी मोहर्रम नामा 2017  में और अहवाल सादात कुंदरकी 2018 में भी प्रकाशित किया है.!
कुंदरकी की ऐतिहासिक कर्बला हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम से अकीदत रखने वाले लोगों की आस्था का मरकज बनी हुई है यहां पर प्रतिदिन ही और खास तौर पर मोहर्रम चेहल्लुम सबेरात और प्रत्येक बृहस्पतिवार को कर्बला पर रोशनी करने वालो मन्नत मांगने  वाले पुरुषों – महिलाओं और बच्चों का तांता लगा रहता है दस मोहर्रम और बीस सफर को बस्ती व आसपास के ग्रामों के ताजिए भी इसी ऐतिहासिक  कर्बला में दफन किए जाते हैं और लाखों लोग ऐतिहासिक कर्बला पर दुआ मांग कर फेज़  हासिल करते हैं.
==========
लेखक
एम.के भारती सैफ़ी
कुन्दरकी मुरादाबाद

WhatsApp chat