मोदी की भाजपा क्या शहादत के ख़ून को भी सियासत के रंग में रंगने पर तुली है ?

 

लखनऊ से तौसीफ़ क़ुरैशी
राज्य मुख्यालय लखनऊ। ये बात सही है कि सियासत करने वाले सियासी दलों को ग़म हो या ख़ुशी हर बात में अपना सियासी फ़ायदा नज़र आने लगता है जहाँ देश की सेना पाकिस्तान के आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान को सबक़ सिखाने में व्यस्त है वही मोदी सहित उसके नेता लगे है उस आतंकी हमले से उबले लोगों को यह बताने पर कि मोदी की भाजपा सरकार ने आतंकी देश पाकिस्तान को सबक़ सिखा दिया है जबकि ये बात अलग है कि सरकार किसी की भी होती हमारी सेना इसी तरह की कार्रवाई के लिए जानी जाती है लेकिन ये बात नेताओं की शायद समझ में नही आती या जानबूझकर समझने की कोशिश नही करते धिक्कार है ऐसी सियासत करने वालों और गोदी मीडिया पर जो उनके एजेंडे को परोस रहा है।पाकिस्तान के द्वारा प्रायोजित आतंकियों ने पुलवामा में हमला कर हमारे पचास के क़रीब CRPF के जवान शहीद कर दिए थे जिसके जवाब में हमारी सेना ने पाकिस्तान को उसकी ज़मीन पर चल रहे आतंकियों के कैंपों पर एयर स्ट्राइक कर तीन सौ से ज़्यादा आतंकियों को मौत की नींद सुलाया था तभी से मोदी सहित उनके बयानवीरों ने अपने बयानों की झंडी लगा रखी है कोई कह रहा है इसका चुनाव में फ़ायदा मिलेगा तो मोदी कह रहे है कि देश कमज़ोर हाथों में नही है उनकी इस बात के बाद यह सवाल उठता है कि जब आतंकी 300 क़िलों या उससे अधिक बारूद लेकर हमारे देश में आ गए तब किसके हाथों में देश था क्या वह हाथ मज़बूत नही थे जबकि यह सवाल करने का मौक़ा नही है फिर भी ये एक सवाल है अरे मुर्खों हमारी सेना ने हमेंशा अपने दुश्मनों को उसके घर में ही चुनौती दी है आज कोई नई बात नही है हमें पहले भी अपने वीर जवानों पर गर्व था आज भी है और हमेशा रहेगा सरकार तो आती-जाती रहती है लेकिन हमारी सेना उसी तरह हमारी सीमाओं की और हमारी रक्षा करती रहती है।पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर मंगलवार को भारत की ओर से की गई एयर स्ट्राइक में मोदी की भाजपा को सियासी फायदा नजर आ रहा है।कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और मोदी की भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि पाकिस्तान के आतंकी शिविरों पर भारत की एयर स्ट्राइक से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में लहर पैदा हो गई है अफ़सोस सिर्फ़ अफ़सोस ही किया जा सकता है।देशभर में उनके खिलाफ बन रहे माहौल से घबराई मोदी सरकार व उनकी पार्टी गठबंधन की वजह से पुलवामा को ढाल बनाने का प्रयास कर रही है।

उनका कहना है कि इससे मोदी की भाजपा को लोकसभा चुनाव 2019 में कर्नाटक में 28 में 22 सीटें जीतने में मदद मिलेगी यही उम्मीद मोदी की भाजपा को पूरे देश में भी है।बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि दिनोंदिन देशभर में मोदी की भाजपा के पक्ष में लहर बनती जा रही है।पाकिस्तान के भीतर घुसकर आतंकी कैंपों को तबाह कर देने के कदम से देश में मोदी के समर्थन में लहर बनी है।इसका नतीजा आगामी लोकसभा चुनाव में नजर आ सकता है यही मानना है मोदी की भाजपा का।कर्नाटक के चित्रदुर्ग में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि इस एयर स्ट्राइक की कार्रवाई ने देश के नौजवानों में जोश भर दिया है, इससे हमें (कर्नाटक में) लोकसभा की 22 से ज्यादा सीटें जीतने में मदद मिलेगी।भारत ने मंगलवार तड़के आतंकी संगठन जैश-ए-मौहम्मद के प्रशिक्षण शिविर पर एक बड़ी कार्रवाई कर उसे नष्ट कर दिया था।इस एयर स्ट्राइक में बड़ी संख्या में पाकिस्तानी आतंकवादी और उसके कमांडर मारे गए थे।भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ ये कार्रवाई जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद की थी, क्योंकि इस आतंकी हमले में हमारे CRPF के पचास से ज़्यादा जवान शहीद हो गए थे।बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कर्नाटक की कुल 28 लोकसभा सीटों में से मोदी की भाजपा ने 17, कांग्रेस ने 9 और जेडीएस ने दो सीटें जीतने में कामयाबी हासिल की थी।लेकिन पिछले साल विधानसभा चुनाव के बाद रिक्त हुई बेल्लारी सीट पर हुए उपचुनाव में मोदी की भाजपा बुरी तरह हार गई थी।इस तरह मौजूदा समय में मोदी की भाजपा के पास 16 और कांग्रेस के पास 10 सीटें हैं।2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और जेडीएस ने मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया है जिसकी वजह से नरेन्द्र मोदी के साथ-साथ उसके नेताओं को कोई रास्ता नही मिल रहा है यही वजह इस एयर स्ट्राइक को अपने चुनावी लाभ के रूप में देख रही है अब यह तो देश की जनता तय करेगी कि वह उससे पूर्व की सरकार का हिसाब माँगती है या भावनाओं में बहकर वोट करती है जैसा पाकिस्तान के पीएम इमरान खान भी कह रहे है कि ये तनाव हिन्दुस्तान में चुनाव होने की वजह से हो रहा है जबकि यह तनाव पुलवामा में हुए आतंकी हमले की वजह से हो रहा है लेकिन अगर मोदी की भाजपा इसको अपने फ़ायदे के रूप देख रही है तो उनकी बात सही हो जाएगी और मोदी की भाजपा के नेता इसकी प्रमाणिकता कर रही है जबकि यह सही नही है।हालांकि कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस के बीच गठबंधन लगभग फ़ाइनल है परन्तु सीट शेयरिंग को लेकर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक जेडीएस 10 से 12 सीटें मांग रही है, जबकि कांग्रेस का कहना है कि सीट का बंटवारा योग्यता के आधार पर होगा।पुलवामा में शहीद हुए हमारे जवानों के ख़ून पर अगर मोदी की भाजपा सियासत करती है या कराती है तो हमें ऐसी सियासत करने वालों को सबक़ सिखाना चाहिए जो शहादत के ख़ून को भी सियासत के रंग रंगने पर तुली हो ? इसे किसी भी तरह से सही नही क़रार दिया जा सकता है लेकिन इसके बावजूद इसका प्रयास किया जा रहा है देखते है कि चुनाव में किसको फ़ायदा होता और किसको नुक़सान ये तो चुनाव के परिणाम तय करेगे।

WhatsApp chat