मलेरिया की रोकथाम को विश्व स्तर पर हो रहे प्रयास 40 मिनट तक ही माॅशकीटो क्वाइल जलाने की दी सलाह

सीएमओ डाॅ. मुकेश कुमार वत्स

आगरा 25 अप्रैल। मलेरिया एक घातक बीमारी है। इसकी रोकथाम के लिए विश्व स्तर पर प्रयास किये जा रहे हैं। इस बीमारी से बचने के लिए हम सभी को अपने स्तर पर प्रयास करना पड़ेगा। विश्व मलेरिया दिवस का मुख्य उद्देश्य ही लोगों को मलेरिया के प्रति जागरुक करना है। यह उद्गार गुरुवार को मुख्यचिकित्साधिकारी कार्यालय सभागार में विश्व मलेरिया दिवस के मौके पर आयोजित गोष्ठी में सीएमओ डाॅ. मुकेश कुमार वत्स ने व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि मच्छरों से बचने के लिए घरों के आसपास और घर के अन्दर कहीं पर भी पानी का जमाव न होने दे। जहां पर पानी का जमाव होगा वहां मच्छर पनपेगा। अपने सोने वाले कमरों में मच्छरदानी का प्रयोग करें। उन्होंने कहा कि मलेरिया के केसों को छुपाया न जाये, बल्कि उसका उचित उपचार कराया जाये। मलेरिया का मौसम शुरू होने वाला है इसलिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरुक होने की जरूरत है। इस मौके पर मलेरिया कैसे फैलता है, इससे कैसे बचाव किया जा सकता है इस पर चर्चा की गई।
जिला मलेरिया अधिकारी डाॅ. रमाकान्त दीक्षित ने कहा कि जुलाई से सितम्बर तक मच्छरों की संख्या में काफी बढोत्तरी होती है। इसलिए हम लोगों को पहले से तैयारी करनी होगी। उन्होंने कहा कि बाहर का तापमान लगातार बढ़ रहा है। जिसके चलते मच्छर घरों के अन्दर पहुंच रहे हैं। डाॅ. दीक्षित ने कहा कि कमरे से मच्छरों को भगाने के लिए माॅशकीटों क्वाइल सिर्फ 40 मिनट तक जलाकर कमरा बंद कर छोड़ दे। उसके बाद 20 मिनट तक कमरे को खुला छोड़ दे। सारे मच्छर भाग जायेंगे। रात भर कमरे में माॅशकीटों क्वाइल जलाना सेहत के लिए बहुत हानिकारक है। उन्होंने कहा कि मच्छरों से बचाव के लिए नीम का तेल उपयोग में लाये। इसके अलावा घरों में चलने वाले कूलरों का पानी सप्ताह में एक बार जरूर बदल दें। उन्होंने बताया कि शुक्रवार से टीमें घर-घर जाकर सर्वेक्षण करेंगी और लोगों को जागरुक करने के साथ-साथ इस बात की भी पुष्टि करेंगी कि किसी के घर में कहीं पर जल जमाव तो नहीं है।
डाॅ. विनय कुमार ने कहा कि मलेरिया से बचाव के लिए साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। मच्छर गंदगी में सबसे ज्यादा पनपते हैं। इस बीमारी से कोई जनहानि न हो, इसके लिए लोगों को जागरुक होना बहुत जरूरी है। कार्यक्रम में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. संजीव वर्मन, डाॅ. रचना गुुप्ता, डाॅ. नीता कुलश्रेष्ठ, डाॅ. जर्नादन, डिप्टी जिला स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी अनिल कुमार, सहायक मलेरिया अधिकारी आरके शर्मा, नीरज कुमार, भूरी सिंह, हर्ष वर्धन गुप्ता सहित स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी अधिकारी मौजूद रहे।

WhatsApp chat