बातचीत को राजी नहीं यमन युद्ध में शामिल पक्ष : संयुक्त राष्ट्र

 

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि यमन में चल रहे युद्ध में शामिल पक्ष होदेदा बंदरगाह में सुरक्षा बलों की दोबारा तैनाती को लेकर आमने-सामने बातचीत करने का प्रस्ताव दो बार ठुकरा चुके हैं। बता दें ‎कि यह बातचीत संयुक्त राष्ट्र की एक टीम की निगरानी में होगी। संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने कहा कि निगरानी टीम के प्रमुख, नीदरलैंड्स के सेवानिवृत मेजर पैट्रिक कामाएर्ट हैं। ‎जिनकी ‎निगरानी में यमन सरकार और हूती विद्रोहियों के बीच यह बातचीत के ‎लिए यह प्रस्ताव तैयार ‎किया गया है। कामाएर्ट ने दोनों पक्षों के बीच बातचीत कराने के ‎लिए भरपूर कोशिश भी की। ले‎किन बातचीत का प्रस्ताव ठुकराने से युद्ध में शा‎मिल पक्षों के बीच आविश्वास का संकेत मिलता है। साथ ही 13 दिसंबर को हुती विद्रोहियों और सरकार के बीच हुए समझौते को लागू करने में कठिनाई आने का अंदेशा जताया है। डुजारिक ने कहा कि कामाएर्ट होदेदा में सभी पक्षों की सहमति से सुरक्षा बल तैनात करने के लिये राह अभी भी तलाश रहे हैं। बता दें ‎कि इसी बंदरगाह के जरिये यमन में खाने का सामान और दूसरी मानवीय मदद पहुंचाई जाती है। क्यों‎कि सालिफ और रास इसा जैसे छोटे बंदरगाहों से मानवीय मदद पहुंचाना बहुत मुश्किल होता है। डुजारिक ने कहा, “हालिया चर्चाएं रचनात्मक रही हैं और कामाएर्ट सभी पक्षों को संयुक्त बैठकें दोबारा शुरू करने के लिये प्रयास कर रहे हैं।

WhatsApp chat