Breaking News

बांग्लादेश में सांप्रदायिक हिंसा में मारे गए दो हिन्दू, अब तक 6 की मौत

स्थानीय पुलिस थाने के प्रमुख शाह इमरान ने संवाददाताओं से कहा कि 200 से अधिक प्रदर्शनकारियों ने एक मंदिर पर हमला किया जहां हिंदू समुदाय के लोग 10 दिवसीय उत्सव का समापन करने की तैयारी कर रहे थे.

ढाका: बांग्लादेश में ताजा सांप्रदायिक हिंसा में दो हिंदुओं की मौत हो गई है. पुलिस अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि मुस्लिम बहुल देश में हालिया अशांति से मरने वालों की संख्या छह हो गई है. दुर्गा पूजा समारोह के दौरान एक हिंदू देवता के घुटने पर कुरान रखे जाने के फुटेज सामने आने के बाद बुधवार को विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ था. बांग्लादेश में हिन्दू अल्पसंख्यक समुदाय आबादी का लगभग 10 प्रतिशत हिस्सा हैं. पुलिस ने कहा कि ताजा हिंसा दक्षिणी शहर बेगमगंज में हुई जब सैकड़ों मुसलमानों ने दुर्गा पूजा के अंतिम दिन जुमे की नमाज के बाद सड़क पर जुलूस निकाला. स्थानीय पुलिस थाने के प्रमुख शाह इमरान ने संवाददाताओं से कहा कि 200 से अधिक प्रदर्शनकारियों ने एक मंदिर पर हमला किया जहां हिंदू समुदाय के लोग 10 दिवसीय उत्सव का समापन करने की तैयारी कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि हमलावरों ने मंदिर समिति के एक कार्यकारी सदस्य की पीट-पीटकर हत्या कर दी. जिला पुलिस प्रमुख शाहिदुल इस्लाम ने एएफपी को बताया कि शनिवार सुबह मंदिर के बगल में एक तालाब के पास एक और हिंदू व्यक्ति का शव मिला. उन्होंने कहा, “कल के हमले के बाद से दो लोगों की मौत हो गई है. हम दोषियों को खोजने की कोशिशों में जुटे हैं.” कुरान की घटना के सोशल मीडिया पर फुटेज सामने आने के बाद इस सप्ताह पूरे बांग्लादेश में हिंदू विरोधी हिंसा एक दर्जन से अधिक जिलों में फैल गई.

हाजीगंज में एक हिंदू मंदिर पर हमला करने वाले लगभग 500 लोगों की भीड़ पर पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी में बुधवार देर रात कम से कम चार लोगों की मौत हो गई. समुदाय के नेता गोबिंद चंद्र प्रमाणिक ने एएफपी को बताया कि देश भर में कम से कम 150 हिंदू घायल हुए हैं और कम से कम 80 अस्थायी मंदिरों पर हमला किया गया है. अधिकारियों ने आंकड़ों की पुष्टि नहीं की. 16.9 करोड़ की आबादी वाले देश में हिंदू अक्सर सांप्रदायिक हिंसा का शिकार हुए हैं. स्थानीय अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने आगे किसी भी अशांति को नियंत्रित करने के लिए अर्धसैनिक सीमा प्रहरियों सहित अतिरिक्त सुरक्षा तैनात की है. शुक्रवार को राजधानी ढाका और चटगांव में हिंसा भड़क उठी, जिसके बाद पुलिस ने ईंट फेंकने वाले हजारों मुस्लिम प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े और रबर की गोलियां चलाईं.