आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को नियमित कर दिया जाए वेतन और सुविधा

 

अशोकनगर। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को नियमित कराने की मांग को लेकर बुधवार को आशा उषा सहयोगिनी कार्यकर्ताओं ने प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। बुधवार दोपहर को कलेक्ट्रे पहुंची आशा, उषा कार्यकर्ताओं ने आशा उषा सहयोगिनी एकता यूनियन मप्र सीटू के बैनर तले मुख्यमंत्री कमलनाथ सिंह के नाम संबोधित ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर राहुल गुप्ता को सौंपा।

इसमें कांग्रेस पार्टी द्वारा चुनाव के समय जारी वचन पत्र में की गई घोषणा के तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को नियमित कराकर उन्हें वेतन और सुविधाएं दिलाने की मांग की गई है। ज्ञापन में कहा है कि विभिन्न मांगों को लेकर केंद्रीय श्रमिक संगठनों और अखिल भारतीय आशा समन्वयक समिति के राष्ट्रीय आव्हान पर 8 और 9 जनवरी को दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल की गई है। ज्ञापन में आशा, उषा कार्यकर्ताओं को स्वास्थ्य कर्मियों के रूप में नियमित कर नियमित कर्मचारियों का वेतन और अन्य सुविधाएं दिलाने की मांग की गई है। साथ ही जब तक नियमितीकरण न हो जब तक 20 हजार रुपए व सहयोगिनी को 24 हजार रुपए न्यूनतम वेतन दिया जाए। ज्ञापन सौंपने वालों में बड़ी संख्या में आशा, उषा कार्यकर्ता और सहयोगिनी कार्यकर्ता शामिल थीं।

ज्ञापन में उठाई यह सोलह सूत्रीय मांगें:
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/ सहायिका एकता यूनियन (सीटू) की जिलाध्यक्ष ने बताया कि प्रदर्शन के बाद सौंपे गए ज्ञापन में न्यूनतम वेतन आषा ऊषा को 20 हजार एवं सहयोगिनी को 24 हजार दिए जाने, अन्य राज्यों की तरह अतिरिक्त मानदेय दिए जाने, एएनएम की नियुक्ति में 50 फीसदी रिक्त पदों में पदोन्नति की जाने, वर्ष में तीन जोड़ी यूनिफार्म एवं मोबाइल खर्च दिए जाने, सभी आशाओं को गरीबी रेखा राशन कार्ड एवं अधिकतम 2 रुपये की दर से 35 किलो अनाज दिए जाने, अशाओं के साथ अभद्र व्यवहार और प्रताडऩा को रोका जाने, राज्य सरकार द्वारा श्रम कानूनों में किये जा रहे मजदूर, कर्मचारी विरोधी संशोधन वापस लेने सहित अन्य मांगे शामिल थीं।

WhatsApp chat