बदबू कर रही बीमार / 30 लाख रुपए बकाया, सरकारी अस्पतालों से कचरा नहीं उठा रही कंपनी, मरीजों को संक्रमण का खतरा

कचरा शुल्क के करीब 30 लाख रुपए बकाया होने पर हाउसविन कंपनी चार दिन से स्वास्थ्य विभाग के सरकारी अस्पतालों का कचरा नहीं उठा रही है। इससे जहां मरीजों को संक्रमण का खतरा है तो वहीं बदबू के कारण यहां स्टाफ से लेकर डॉक्टरों तक का बैठना मुश्किल हो रहा है। कंपनी 150 रुपए महीना प्रति बेड के हिसाब से शुल्क लेती है।

शहर में ही जिला समेत अन्य सरकारी अस्पतालों में करीब 250 बेड हैं। डेढ़ साल से कंपनी को भुगतान नहीं हुआ है। कई बार कंपनी ने पत्र भी लिखे। उधर स्वास्थ्य संचालनालय ने भी इस दौरान कई पत्र लिख दिए जिसमें कंपनी का पैसा काटने का फरमान दिया। पैसा काटने के चक्कर में बिल रोक दिए गए।

हाउस विन कंपनी के अरसद वारसी कहते हैं हम सरकारी अस्पतालों को वैसे भी रियायती दर पर सेवा दे रहे हैं, बावजूद समय पर भुगतान नहीं किया जा रहा है। उधर, एमवायएच में बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट को लेकर नगर निगम ने सख्त आपत्ति ली है। निगम की टीम रोजाना अस्पताल में निरीक्षण के लिए आ रही है।

पर्यावरण के लिए होता है खतरनाक : जानकारों के अनुसार मेडिकल वेस्ट को ऐसे ही फेंकने और जलाने से वह जहर की तरह काम करता है। यह पर्यावरण के लिए भी खतरनाक है। कचरे के ढेर अस्पताल में ही पसरे हैं, जिससे लोगों का सांस लेना दूभर हो गया है। इससे बीमारी के संक्रमण का खतरा बढ़ गया है।,

बिल भोपाल भिजवाए हैं, जल्द भुगतान होगा : इस मामले में नवनियुक्त सीएमएचओ डॉ. अशोक डागरिया का कहना है इस समस्या की जानकारी मिली है। मुख्यालय से कुछ सवाल थे, जिनके समाधान के लिए हमने बिल भोपाल भिजवाए हैं। जल्द ही इस इसका निपटान हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat