10 हजार कलाकारों ने हाथों की छाप का इस्तेमाल कर बनाई पेंटिंग, तय समय से पहले बना विश्व रिकॉर्ड

 

  • कुंभ मेला क्षेत्र के सेक्टर एक स्थित गंगा पंडाल में शुक्रवार को हुआ कार्यक्रम का आयोजन
  • महाशिवरात्रि पर्व के स्नान के लिए संगम तट पर उमड़ने लगी श्रद्धालुओं की भीड़

प्रयागराज. कुंभ मेले में शुक्रवार को एक साथ दस हजार कलाकारों ने एक पेंटिंग तैयार की। एक साथ हजारों कलाकारों द्वारा तैयार की गई इस पेंटिंग को गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में जगह मिल गई है। इस पेंटिंग में दस हजार से ज़्यादा कलाकार सिर्फ अपने हाथों की छाप का इस्तेमाल कर गंगा थीम पर पेंटिंग बनाई। इसके लिए कुंभ मेले के गंगा पंडाल में ख़ास आयोजन किया गया। आठ घंटे के इस आयोजन में समय पूरा हाने से पहले ही पिछला वर्ल्ड रिकार्ड टूट गया है।

ख़ास बात यह है कि गंगा थीम पर तैयार हुई इस अनूठी पेंटिंग में ब्रश के बजाय सिर्फ हाथ की छाप का इस्तेमाल किया गया. रिकार्ड कायम करने के लिए प्रयागराज के स्कूली छात्र -छात्राओं के साथ ही देश भर के फाइन आर्ट्स कॉलेज से ट्रेनिंग पाए कलाकारों को भी बुलाया गया था। आयोजन ख़त्म होने से पहले ही गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड की टीम ने नया कीर्तिमान बनने का एलान किया। इस अनूठे आयोजन को देखने के लिए कुंभ मेले के गंगा पंडाल में बड़ी संख्या में दर्शकों की भीड़ उमड़ी।

यह पेंटिंग शहर में दिसंबर महीने में हुए पेंट माई सिटी अभियान को आगे भी जारी रखने के मकसद से तैयार कराई गई है। कुंभ मेला शुरू होने से पहले पूरे प्रयागराज शहर की दीवारों – पुलों और बिल्डिंग्स को पेंट माई सिटी के तहत पेंट कर उन पर पेंटिंग्स बनाई गई थीं।

इससे पहले कुंभ मेले में इससे पहले बृहस्पतिवार को एक साथ एक ही रुट पर पांच सौ से ज़्यादा शटल बसें चलाकर रिकार्ड कायम किया गया था। शटल बसों और पेंटिंग के बाद शनिवार को मेले में एक साथ बारह हजार सफाई कर्मचारी हाथों में झाड़ू लेकर पूरे कुंभ मेला क्षेत्र की सफाई करेंगे।

खादी ग्रामोद्योग प्रदर्शनी का समापन आज
उत्तर प्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड एवं अखिल भारतीय खादी ग्रामोद्योग आयोग की ओर से कुंभ मेला में लगाई गई प्रदर्शनी का समापन शुक्रवार को हो गया। राष्ट्रीय खादी तथा ग्रामोद्योग प्रदर्शनी कुंभ- 2019 नाम की यह प्रदर्शनी कुंभ मेला के सेक्टर एक त्रिवेणी रोड पर 12 जनवरी को शुरु हुई थी। प्रदर्शनी के संयोजक राम औतार यादव के मुताबिक मेलाधिकारी विजय किरन आनंद, डीआईजी मेला केपी सिंह ने इस प्रदर्शनी का समापन किया।

महाशिवरात्रि से पहले उमड़ा आस्था का रेला
दिव्य और भव्य कुंभ के आखिरी स्नान पर्व महाशिवरात्रि से पहले ही संगम पर एक बार फिर आस्था की लहरें हिलारें मारने लगी हैं। मेले के आखिरी दौर में कुंभ स्नान का पुण्य बटोरने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ पहुंचने लगी है। लोग शिविरों और होटलों में अपनी जगह पक्की कर रहे हैं। कुंभ में लगे सरकारी संस्थानों के शिविरों को 10 मार्च तक न हटाने का निर्देश दिया गया है। वहीं, रेलवे द्वारा 25 स्पेशल ट्रेनों का संचालन किए जाने का ऐलान किया गया है।

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat