एक बार फ़िर बने नरेंद्र मिसाल, खोडनिया ने मरणोपरांत नेत्रदान की घोषणा कर मनाया जन्मदिन

नरेंद्र खोड़निया दम्पत्ति ने…. कायम की एक मिसाल
उपस्थित लोगों की छलकी आंखे
कैलाश सिंह सागवाडा। 18000 दशाहूमड़ दिगम्बर जैन समाज के सक्रिय सदस्य एवं जैन समाज सागवाड़ा के ट्रस्टी नरेंद्र खोड़निया एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती निर्मला खोड़निया ने मरणोपरांत नेत्रदान की घोषणा कर अपना जन्मदिन अतिशय क्षेत्र देरोल देवपुरी में मनाया।
फेडरेशन ऑफ हुमड़ जैन समाज के राजस्थान प्रोविंस के चेयरमैन अजीत कोठिया के आग्रह पर नरेंद्र खोड़निया ने अपने 60 वे जन्मदिन को यादगार बनाने पत्नी निर्मला खोड़निया के साथ मरणोपरांत नेत्रदान की घोषणा की।
कोठिया ने जब नरेंद्र भाई को बताया की आप दोनों की दान की गई आंखों से चार लोगों को नेत्र ज्योति मिलेगी एवं यह परम्परा यूँही आगे भी चलती रहेगी एवं आप दोनों रहो या ना रहो दुनियां में आपकी आँखे शाश्वत रहेंगी तो वे भावविभोर हो उनकी आंखें छलक गई।
खोड़निया ने संकल्प लिया की वे ओर लोगों को भी प्रेरित करेंगे की वो अपने जन्मदिन अथवा विवाह वार्षिकी पर मरणोपरांत नेत्रदान की घोषणा कर अन्धत्व निवारण का मार्ग प्रशस्त करे।कोठिया ने नरेंद्र खोड़निया की मरणोपरांत नेत्रदान की घोषणा को युवाओ के लिए प्रेरक बताते हुए इसे एक सामयिक कदम बताया।खोड़निया को फैडरेशन ऑफ हुमड़ जैन समाज,18000 दशाहूमड़ दिगम्बर जैन समाज एवं महावीर इंटरनेशनल के वागड़ जोन की ओर से शुभकामनाये दी गई है।

WhatsApp chat