साढ़े चार साल में विदेशों में फंसे दो लाख प्रवासियों को भारत लाया गया : सुषमा

नागपुर। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा पिछले साढ़े चार साल की अवधि में विभिन्न देशों में फंसे करीब दो लाख प्रवासियों को भारत वापस लाया जा चुका है। स्वराज के मुताबिक नरेंद्र मोदी सरकार ने अपनी विदेश नीतियों में राष्ट्र हितों को प्राथमिकता दी है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की महिला शाखा राष्ट्रीय सेविका समिति से संबद्ध श्री शक्ति पीठ द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने कहा इससे पहले कई विदेश मंत्री रहे हैं, लेकिन क्या विदेशों में रहने वाले अपने नागरिकों की सुरक्षा विदेश मंत्रालय की प्राथमिकता रही है? कभी नहीं।

मैंने ‘परदेस में आपका दोस्त, भारतीय दूतावास’ की पहल की। विदेश मंत्री ने कहा, जब कोई अपने ही देश में परेशानी में फंसता है, तो मदद करने वाले लोग होते हैं और कई अन्य विकल्प होते हैं। लेकिन धोखाधड़ी या अन्य कई कारणों से विदेश में फंस जाने वाले को बचाने वाला कोई नहीं होता। अगर आंकड़ों की बात करें, तो हम 2,03,666 अप्रवासियों को वापस लेकर आए हैं, जो विदेश में मुसीबत में फंसे हुए थे। स्वराज के मुताबिक, असंतुलित संबंध में संतुलन लाना भारत की कूटनीति का हिस्सा है, जिसे उसने राष्ट्र हितों को महत्त्व देकर आगे बढ़ाया है।

WhatsApp chat