सत्य घटना – खुद को संभालो बस यही कहना है

67 total views, 1 views today

स्कूल में पैरेंट मीटिंग में गया था वहां पर एक पुलिस अधिकारी भी आये थे। सभा भरी थी, वहां पुलिस अधिकारी ने पूछा आप मे से कितने लोग फेसबुक का उपयोग करते है लगभग सभी ने कहा हम उपयोग करते है तब उन्होंने एक पालक की और इशारा करते हुए पूछा आप के कितने फेसबुक फ्रेंड है तब उस आदमी ने सीना ठोककर कहा मेरे पांच हजार फ्रेंड्स है बाकी सभी लोग आश्चर्य से उसकी और देखने लगें।

पुलिस ने उसे अगला प्रश्न किया आप उनमे से कितने लोगो को प्रत्यक्ष पहचानते हो या उनसे मिले हो? अब वह थोड़ा घबराया और बोला ज्यादा से ज्यादा सौ-दो सौ को तब पुलिस अधिकारी ने कहा इतने सारे facebook friends है ओर परिचय सौ दो सौ से है। हमारे बार बार के निरीक्षण में यह पाया गया है कि हर पांच आदमियों के पीछे एक criminal mind होता है। आज के समय में घरवालो पर भी विश्वास करना कठिन हो गया है और हम बगैर सोचें समझें किसी की भी  friends request  आसानी से accept कर लेते है। हमारे पुलिस स्टेशन में एक केस आया जिसमे एक तीन साल की लड़की ग़ुम हो गई थी, बहुत जाँच पड़ताल की गई तब पता चला कि उस लड़की का स्कूल का पहला दिन था उस लड़की के पिता ने लड़की को बढ़िया तैयार कर एक फोटो निकाला और  fb पर पोस्ट कर लिखा MY quite baby to first day of school चार दिन वह लड़की स्कूल गयी और पाँचवे दिन वह स्कूल से वापस नही आई जांच में पता चला कि एक आदमी fb का फोटो लेकर स्कूल में आया था और उसने कहा मैं लड़की का चाचा हु घर पर प्रोब्लम हो गई है इसलिए मैं उसे लेने आया हु ऐसा बोल कर स्कूल से ले गया सघन जाँच करने पर पता चला कि वह लड़की 24 घंटे के अंदर भारत के बाहर भेज दी गई कारण यह क्रिमिनल लोग ऐसे होते है कि फोटो डाला कि यह अपनी फ़ास्ट चैन के द्वारा उसके डाक्यूमेंट तैयार करके रख लेते है और दिन तय कर घटना को अन्जाम देते है और उठाकर ले जाते है उसके बाद न कोई फोन, न कोई पैसो की डिमांड अब बताओ इसमें गलती किसकी ? अपनी एक गलती का उस पिता को कितना दुःख हुआ होगा। हम क्यों अपेक्षा करते है कि अपने फोटो पर या बातों पर हमें like मिले और बाहर का कोई व्यक्ति अपनी प्रशंसा करे वह भी अँगूठा बताकर दो चार कमैंट्स के लिये। अपने घर के लोग प्रशंशा करते नही क्या? क्यो हम अपने कुटुम्ब के लोगों की सुरक्षा से खेल रहे हैं जबाबदार हम है। हमारी आदते पसंद नापसंद इतने निचले स्तर पर पहुंच गया है की अब उस पर नियंत्रण करना कठिन हो गया है fb, whatsapp, insta पर की selfi ,हम इधर जा रहे हैं उधर जा रहे हैं।यहां पहुंचे वहा पहुंचे वह भी proper टाइम बताकर डालना याने चोर लुटरों को आगाह करने जैसा है।

Loading...