13.83 लाख नौकरियां खादी-सौर ऊर्जा से होंगी सृजित

नई दिल्ली । खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) की तरफ से प्रधानमंत्री के इम्प्लायमेंट जेनरेशन प्रोग्राम (पीएमईजीपी) सहित विभिन्न योजनाओं के तहत मार्च 2020 तक 13.83 लाख नौकरियें को सृजित करने की योजना बना रहा है।जिसको लेकर केद्रीय सूक्ष्म,स्माल एवं मध्यम उद्यम (एमएसएसई)मंत्रालय के समक्ष दायर केवीआईसी के विजन डॉक्यूमेंट के तहत नवम्बर 2018 से मार्च 2020 तक पीएमईजीपी के तहत 11.3 लाख से अधिक नौकरियों को सृजित किया जाएगा।

दरअसल इस अवधि में अन्य 48,222 नौकरियां खादी एवं 24,000 नौकरियां सोलर वस्त्र की तरफ से सृजित की जाएगी।जिसको लेकर केवीआईसी के चेयरमैन विनय कुमार सेक्सेना ने कहा कि पिछले चार वर्षों में केद्रीय एमएसएमई मत्रालय द्वारा समय पर मंजूरी देने को लेकर धन्यवाद दिया।जबकि केवीआईसी ने सितम्बर 2018 तक 18,39,887 नौकरियों को सृजित किया है।इसके साथ ही हमने नवम्बर 2018 से मार्च 2020 तक 13,83,130 अन्य रोजगार के अवसर सृजित करेगी जिसको लेकर मार्च 2020 तक केवीआईसी की तरफ से अन्य ग्रामीण उद्योगों से लगभग 44,029 के अवसर प्रदान करेगी।वहीं हनी मिशन से 20,285 नौकरियां व कुंभार सशक्तिकरण मिशन से 1,09,200 नौकरियां सृजित करेगी।सितम्बर 2014 से लेकर सितम्बर 2018 के बीच पीएमईजी के तहत 17.09 लाख नौकरियां सृजित की गई है।

इसी बीच प्रधानमंत्री 50 वीं बार मन की बात 25 नवम्बर 2018 को करेंगे।जिसमें देश के कई ज्वलंत मुद्दों को लेकर लोगों से सीधे रुबरु होंगे।उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी द्व्ारा मन की बात में की गई अपील का आम जनमानस पर व्यापक असर हुआ है।जिसके तहत पीएम अपने पहले ही एपीसोड में खादी को आंदोलन बनाने की अपील की थी।जिसके चलते एक सप्ताह में ही खादी की बिक्री लगभग 125 प्रतिशत का उछाल आ गया।जिसके तहत कई सरकारी विभागों में खादी का प्रमोशन बढाने को लेकर हुई पहल का उल्लेख स्वयं प्रधानमंत्री ने किया।

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat