वोडाफोन-आइडिया मोबाइल टावर और फाइबर असेट्स बेचेगी, 20000 करोड़ रु मिलने की उम्मीद

  • रकम का इस्तेमाल कर्ज चुकाने में किया जाएगा, कंपनी पर 1 लाख 23 हजार 660 करोड़ रुपए का कर्ज
  • राइट्स इश्यू लाने का ऐलान पहले ही कर चुकी है कंपनी, इसके जरिए 25000 करोड़ जुटाने की योजना

नई दिल्ली. वोडाफोन-आइडिया अपनी मोबाइल टावर फर्म इंडस टावर में कुछ हिस्सेदारी और ऑप्टिकल फाइबर असेट्स बेचना चाहती है। इस बिक्री से कंपनी को 20,000 करोड़ रुपए मिलने की उम्मीद है। न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है।

इंडस टावर में 11.15% हिस्सेदारी बेचेगा आदित्य बिरला ग्रुप

  1. शेयर और असेट बिक्री से मिलने वाली रकम का इस्तेमाल कर्ज चुकाने में किया जाएगा। वोडाफोन-आइडिया का कर्ज दिसंबर 2018 तक 1 लाख 23 हजार 660 करोड़ रुपए हो गया था।
  2. इससे पहले वोडाफोन-आइडिया ने इंडस टावर में आदित्य बिरला ग्रुप की 11.15% हिस्सेदारी और ऑप्टिकल फाइबर असेट बेचने की योजना के बारे में बताया था। कंपनी के प्रवक्ता ने इंडस टावर में हिस्सेदारी की वैल्यू 5,000 करोड़ रुपए बताई थी। लेकिन, 1.56 लाख किलोमीटर के ऑप्टिकल फाइबर का वैल्यूएशन जारी नहीं किया था।
  3. खर्चों और कर्ज चुकाने के लिए राइट्स इश्यू के जरिए 25,000 करोड़ रुपए जुटाने की भी योजना है। राइट्स इश्यू पूरी तरह सब्सक्राइब नहीं होने पर वोडाफोन ग्रुप इसमें 11,000 करोड़ रुपए और आदित्य बिरला ग्रुप 7,250 करोड़ रुपए का योगदान देगा।

 

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat