काम-धंधा शुरू करने के लिए मिलेंगे 2 से 10 लाख, 15 प्रतिशत सब्सिडी भी मिलेगी

 

  • दो लाख तक के लोन पर आपको किसी प्रकार की गारंटी भी नहीं देना पड़ेगी
  • योजना का उद्देश्य युवाओं को जिला उद्योग केंद्र के माध्यम से उद्यम स्थापित करने में मदद करना है

यूटिलिटी डेस्क. इस योजना के तहत सरकार शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्र के पढ़े-लिखे उन युवाओं को 2 से 10 लाख रुपए तक का लोन दे रही है, जो नौकरी करने के बजाय अपना छोटा-मोटा काम-धंधा शुरू करना चाहते हैं। प्रधानमंत्री रोजगार योजना (PMRPY) में लिए गए लोन पर सरकार आपको सब्सिडी दे रही है साथ ही ब्याज की दर भी काफी कम रखी गई है।
दो लाख तक के लोन पर आपको किसी प्रकार की गारंटी भी नहीं देना पड़ेगी। अगर आपके पास स्किल है, आपके पास किसी बिजनेस की प्लानिंग है तो इस योजना का लाभ उठाकर आप लोन ले सकते हैं। इस ऋण योजना का उद्देश्य व्यापार, सेवा या उद्यम शुरू करने के लिए युवाओं को जिला उद्योग केंद्र के माध्यम से उद्यम स्थापित करने में मदद करना है।

सरकार ने इसके लिए कुछ शर्तें रखी हैं जैसे- पत्नी/पति और माता-पिता के साथ आवेदक की वार्षिक आय 1 लाख रुपए से अधिक नहीं होनी चाहिए। कौशल विकास योजना में कम से कम 6 महीने प्रशिक्षण लिया हो। यानी कि सरकारी मान्यता प्राप्त व्यापार संस्थान में प्रशिक्षित उम्मीदवारों को प्राथमिकता दी जाएगी।

योजना में सभी प्रकार के व्यवसाय रखे गए हैं। आप खेती- किसानी के लिए लोन नहीं ले सकते, लेकिन खेती से जुड़े व्यवसाय के लिए लोन मिल सकता है। चूंकि यह सब्सिडी वाली योजना है, इसलिए किसी भी वर्ग व संप्रदाय का पुरुष/महिला भाग ले सकते हैं। यह स्कीम 2 अक्टूबर 1993 को शुरू की गई थी। और अधिक जानकारी चाहते हैं तो जिला उद्यमिता केंद्र में संपर्क करें।

यह है पात्रता के नियम

    • आवेदक की उम्र 18 से 35 साल के बीच हो। महिलाओं, एससी / एसटी, पूर्व सैनिकों और विकलांगों के लिए 10 साल की छूट है। उत्तर-पूर्वी राज्यों के नागरिकों के लिए 18 से 40 वर्ष है।
    • आवेदक का अपने क्षेत्र में कम से कम 3 वर्ष तक स्थायी निवासी होने का प्रमाण हो।
    • आप 8वीं पास हैं तो भी लोन के लिए हकदार होंगे। कभी डिफॉल्टर न रहा हो।
    • आवेदक किसी सरकारी सब्सिडी योजना का लाभ पहले से न ले रहा हो।
  1. दस्तावेज

    • पासपोर्ट साइज फोटो, शैक्षणिक योग्यता प्रमाणपत्र, उद्यमिता केंद्र से लिए प्रशिक्षण का प्रमाणपत्र, मासिक या वार्षिक आय का प्रमाण-पत्र।
  2. कितना मिलेगा लोन

    • अलग-अलग सेक्टर के लिए लोन की राशि भी अलग है। कारोबार क्षेत्र के लिए 1 लाख रुपए। बिजनेस-सेवा सेक्टर में 2 लाख, सर्विस सेक्टर में 5 लाख, इंडस्ट्री सेक्टर में 5 लाख तक का लोन ले सकते हैं। जबकि दो से अधिक लोग मिलकर साझीदारी में 10 लाख रु. का लोन ले सकते हैं।
    • कोई व्यक्ति अकेले ही 2 लाख रुपए की लागत का कोई व्यवसाय शुरू करता है तो गारंटी की जरूरत नहीं पड़ेगी। वहीं, साझीदारी में बिजनेस शुरू करते हैं तो प्रत्येक पार्टनर को 2 लाख रुपए तक की गारंटी की छूट मिलेगी। जबकि लघु उद्योगों के लिए प्रति व्यक्ति 5 लाख रुपए का कवरेज है।
  3. इतनी मिलेगी सब्सिडी

    • ब्याज दर समय-समय पर बदली रहती है, इसकी जानकारी बैंक से मिलेगी। इस योजना में सरकार आपको 15% तक सब्सिडी देती है। वहीं, उत्तर-पूर्व राज्यों के लिए सब्सिडी 15,000 रुपए, स्व-सहायता समूह के लिए 15,000 रुपए प्रति लाभार्थी है।
    • योजना का लाभ उठाने के लिए प्रशिक्षण का कार्यकाल 3 से 7 दिन का है। जबकि व्यापार और सेवा क्षेत्र के लिए प्रशिक्षण 7 से 10 दिन तक रहेगा। यह औद्योगिक क्षेत्र के लिए 15 से 20 दिन का होगा।

    अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

    जो लोग ऑनलाइन आवेदन नहीं कर सकते, वे जिला उद्योग केंद्र से फॉर्म लेकर हाथ से भरकर जमा करा सकते हैं। यहां से फॉर्मडाउनलोड करें, उसे भरकर अपलोड कर दें। क्लिक करें-
    http://dcmsme.gov.in/publications/forms/pmryform.html

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat