सफेद मुसली के फायदे, गुण, लाभ व नुकसान

सफेद मुस्ली (क्लोरोफिटम बोरेवियायनम), जिसे व्हाईट मुस्ली भी कहा जाता है, आयुर्वेद और हर्बल विज्ञान में प्रयोग किया जाने वाला एक शक्तिशाली कामोत्तेजक और स्ट्रिंग एडेडोजेनिक जड़ी बूटी है। परंपरागत रूप से यह गठिया, कैंसर, मधुमेह, जीवन शक्ति बढ़ाने और यौन प्रदर्शन में सुधार के लिए इस्तेमाल किया गया था। यह विशेष रूप से उन पुरुषों के लिए निर्धारित है जिनके कम शुक्राणुओं की संख्या और कम कामेच्छा है।
आयुर्वेदिक अभ्यास में सफेद मुस्ली या क्लोरोफिटम बोरेवियायनम जड़ पाउडर का उपयोग किया जाता है। यह विभिन्न आयुर्वेदिक योगों के रूप में भी प्रयोग किया जाता है जिसमें मुस्ली पाक शामिल है। यह पुरुष कमजोरी, शारीरिक दुर्बलता, स्तंभन दोष, ऑलिगॉस्पर्मिया, रात का उत्सर्जन, आदि के उपचार में उपयोगी है।

सफेद मुस्ली के लाभ
1. थकान और कमजोरी के लिए: 
शक्कर (गन्ना ब्राउन शुगर) के साथ सफेद मुस्ली थकान को कम करने में मदद करता है और शरीर को ताकत देता है।
2. वजन बढ़ाने के लिए: आप वजन बढ़ाने के लिए दूध के साथ इसे ले सकते हैं।
3. अल्पशुक्राणुता के लिए: यह अल्पशुक्राणुता के उपचार के लिए बहुत उपयोगी है और गिनती, मात्रा, द्रवीकरण समय और गतिशीलता को बेहतर बनाता है। यह सीरम टेस्टोस्टेरोन का स्तर और वृषण कार्य भी सुधारता है।
4. स्वप्नदोष के इलाज के लिए: अगर रोगी रात में उत्सर्जन के बाद कमजोरी, पीठ दर्द और शक्ति या ऊर्जा की कमी महसूस करता है, तो शक्कर के साथ सफ़ेद मूसा पाउडर का कुछ हफ्तों तक इस्तेमाल किया जाना चाहिए। यह उपाय रात के उत्सर्जन की आवृत्ति कम करने और शरीर को पुनर्जन्म करने में मदद करता है।
5. स्तम्भन दोष के इलाज के लिए: यह लिंग ऊतक को ताकत प्रदान करता है, कठोरता में सुधार करता है, और लंबे समय तक उत्सर्जन को बनाए रखने में मदद करता है। यह मुख्य रूप से ताकत प्रदान करता है, टेस्टो पर कार्य करता है, हार्मोन प्रोफ़ाइल में सुधार करता है, और शुक्राणुजनन को प्रेरित करता है।
6. गठिया और संयुक्त दर्द के लिए: इसमे अनुत्तेजक गुण है, जो गठिया में होने वाली संयुक्त सूजन को कम करने में मदद करतें हैं।
7. यह मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने और तनाव और अवसाद का सामना करने में मदद करता है।
8. महिलाओं के लिए यह जड़ीबूटी योनि सूखापन से छुटकारा पाने में मदद कर सकती है।
9. यह स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भी उपयोगी है क्योंकि इससे दूध की गुणवत्ता में सुधार होता है।
10. यह शरीर के निर्माण के लिए एक स्वास्थ्य पूरक के रूप में भी प्रयोग किया जाता है।

सफेद मुस्ली के दुष्प्रभाव:
हालांकि अधिकांश दुष्प्रभाव असामान्य होते हैं और उपेक्षित हो सकते हैं, लेकिन कुछ ऐसे दुष्प्रभाव हैं जो कभी-कभी मेडिकल ध्यान देने की जरूरत दे सकते हैं।
1. सफेद मुस्ली का अत्यधिक सेवन उचित नहीं है। इसमें मौजूद फाइबर, नमी को कम करके मल को कड़ा करता है। इस प्रकार, बदले में, छोटी आंत में आंत्र आंदोलन को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। आप आंत में एक बाधा का अनुभव कर सकते हैं, कब्ज, ऐंठन और दर्द के साथ।
2 इस सब्जी को लेने के बाद कई मामलों में एलर्जी संबंधी प्रतिक्रियाएं दर्ज की गई हैं। सबसे आम एलर्जी प्रतिक्रियाओं में शामिल हैं:
– आँख की सूजन
– बहती नाक
– बंद नाक
– चिड़चिड़ापन और खुजली गले
– त्वचा पर खुजली वाले अंगूठियां
– जी मिचलाना
– हल्कापन
– चक्कर आना
– सिरदर्द
– सांस लेने में कठिनाई

WhatsApp chat