अब काशी से गंगा के रास्ते चलेंगे जहाज

वाराणसी
पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में देश का पहला मल्टी मॉडल टर्मिनल राष्ट्र को समर्पित किया। उन्होंने गंगा नदी पर बने इस टर्मिनल का बटन दबाकर उद्घाटन किया और कोलकाता से आये पहले भारवाहक जहाज की अगवानी की।
वाराणसी में मल्टी-मॉडल टर्मिनल समेत 2413 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के बाद पीएम मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि देश की जनता अब सिर्फ विकास की राजनीति चाहती है। उन्होंने कहा कि एक जमाना था, जब हमारे देश की नदियों में बड़े-बड़े जहाज चलते थे, लेकिन आजादी के बाद इस पर ध्यान देने के बजाय उनकी उपेक्षा की गयी। हमारी नदियों की शक्ति के साथ पहले की सरकारों ने कितना बड़ा अन्याय किया। इस अन्याय को समाप्त करने का कार्य हमारी सरकार कर रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार देश में 100 से ज्यादा राष्ट्रीय जलमार्गों पर काम कर रही है। आज लोकार्पित किया गया वाराणसी-हल्दिया जलमार्ग भी उनमें से एक है। इस काम में दशकों लग गये, लेकिन आज मैं खुश हूं कि देश ने जो सपना देखा था, वह आज काशी की धरती पर साकार हुआ है। मोदी ने कहा कि हमारी सरकार गंगा जी का पैसा ‘पानी’ में नहीं बहा रही, बल्कि गंगा में जो गंदा पानी आ रहा है, उसे साफ करने में लगा रही है।

879 दिनों में बनकर तैयार : वाराणसी मल्टी मॉडल टर्मिनल को रिकॉर्ड 879 दिनों में बनाया गया है। इस टर्मिनल की क्षमता 12.6 लाख टन प्रति वर्ष है। करीब 5369.18 करोड़ की लागत से बने टर्मिनल पर आये खर्च को केंद्र और विश्व बैंक ने आधा-आधा वहन किया है।

WhatsApp chat