बेटी है वरदान, लिंग परीक्षण अभिशाप

बेटी है वरदान, लिंग परीक्षण अभिशाप

राजकीय कस्तुरबा गांधी विद्यालय में राष्ट्रीय बालिका दिवस पर मनाया बेटी महोत्सव

नागौर।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. सुकुमार कश्यप ने कहा कि बेटी वरदान हैं, इसका गर्भ से लेकर उच्च शिक्षा तक हर स्तर पर संरक्षण करों और बढ़ावा दो। जब बेटी होगी, तभी तो बहू आएगी। लिंग परीक्षण को कानूनी अपराध के साथ-साथ अभिशाप मानें और इस सामाजिक बुराई को जड़मूल नष्ट करने का प्रयास करें। डाॅ. कश्यप सोमवार को राजकीय कस्तुरबा गांधी आवासीय विद्यालय में राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित बेटी महोत्सव समारोह को संबोधित करते हुए कही।

जिला पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ की ओर से रखे गए इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ सुकुमार कश्यप ने कहा कि हमें लिंग परीक्षण एवं कन्या भू्रण हत्या को रोकने के लिए सामूहिक रूप से सामाजिक स्तर पर भी प्रयास करने होंगे। उन्होंने पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ की ओर से किए जा रहे आॅपरेशन डिकाॅय के बारे में भी जानकारी दी। इस मौके पर उन्होंने मेहन्दी प्रतियोगिता, पोस्टर प्रतियोगिता एवं नारा लेख स्पर्धा में प्रथम तीन स्थानों पर रही बालिकाओं को प्रशिस्त पत्र देकर सम्मानित भी किया।

सरस्वती वंदना के बाद शुरू हुए कार्यक्रम में बालिका सुनीता, मोनिका व संजू ने बेटी के महत्व को जताने वाला गीत सुनाया। समारोह में विजेता बालिकाओं को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के साथ जिला पीसीपीएनडीटी काॅर्डिनेटर सत्येन्द्र पालीवाल, आवासीय विद्यालय की प्रधानाध्यापक संतोष पालीवाल, संतोष ओगरा ने प्रशस्ति पत्र वितरित किए। कार्यक्रम संयोजन जिला आईईसी समन्वयक हेमन्त उज्जवल ने किया।

इन विजेता बालिकाओं को मिला सम्मान

मेहन्दी प्रतियोगिताः- राज कंवर, जशोदा, पिंकी।

नारा लेखन प्रतियोगिताः- मोनिका, संजू एवं अनिता।

पोस्टर प्रतियोगिताः- सुनीता, गुड्डी भाटी एवं प्रियंका मेघवाल।
By-kailashsingh

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat