छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 18 सीटों के लिए वोटिंग जारी है।

रायपुर.  छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 18 सीटों के लिए वोटिंग जारी है। इनमें बस्तर की 12 और राजनांदगांव जिले की 6 सीटें शामिल हैं। 31.79 लाख मतदाता अगली सरकार चुनेंगे। कुल 190 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें 42 उम्मीदवार करोड़पति हैं। कांग्रेस के 7 उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। भाजपा का क्रिमिनल रिकॉर्ड वाला कोई उम्मीदवार नहीं है। पिछले चुनाव में भाजपा को 6 और कांग्रेस को 12 सीटें मिली थीं।

इस बार पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस ने बसपा के साथ गठबंधन किया है। इससे पहले चरण में चार से पांच सीटों पर मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है। दूसरे चरण का मतदान 20 नवंबर को होगा और परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे।

मतदान का वक्त अलग-अलग : पहले चरण की 18 सीटों में से ज्यादातर नक्सल प्रभावित हैं। इस वजह से मतदान का वक्त अलग-अलग है। चुनाव आयोग के मुताबिक, 10 सीटों (मोहला-मानपुर, अंतागढ़, भानुप्रतापुर, कांकेर, केशकाल, कोंडागांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कोंटा) पर मतदान सुबह सात से दोपहर तीन बजे तक होगा। बाकी सीटें राजनांदगांव, डोंगरगढ़, खैरागढ़, बस्तर, जगदलपुर, चित्रकोट, डोंगरगांव और खुज्जी में आठ से पांच बजे तक वोट डाले जाएंगे।

300 से ज्यादा बारुदी सुरंगें निकाली गईं : राज्य के नक्सल विरोधी अभियान के विशेष पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने रविवार को बताया कि शांतिपूर्ण मतदान के लिए पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। करीब एक लाख सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। पिछले तीन दिनोंं में नक्सल प्रभावित इलाकों से 300 से ज्यादा आईईडी (बारुदी सुरंगें) निकाली गई हैं। 650 मतदान दलों को हेलिकॉप्टर से भेजा गया है।

कांग्रेस ने 9 मौजूदा विधायक पर भरोसा दिखाया: कांग्रेस के 18 प्रत्याशियों में से नौ मौजूदा विधायक हैं। इनमें मनोज सिंह मांडवी (भानुप्रतापुर), मोहन लाल मरकाम (कोंडागांव), एल भगत (बस्तर), दीपक कुमार बैज (चित्रकोट), देवती कर्मा (दंतेवाड़ा), कवासी लखमा (कोंटा), गिरवर जंघेल (खैरागढ़) और दलेश्वर साहू (डोंगरगांव) शामिल हैं। भाजपा ने मंत्री महेश गागड़ा (बीजापुर), केदार कश्यप (नारायणपुर) और मौजूदा विधायक- संतोष बाफना (जगदलपुर), सरोजनी बंजारे (डोंगरगढ़) शामिल हैं। 17 सीटों पर भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला नजर आया। कोंटा में सीपीआई के आने से मुकाबला त्रिकोणीय मुकाबला बनता दिखा। ज्यादातर सीटों पर पुराने प्रद्विद्वंदियों के बीच भिड़ंत होगी, जबकि खुज्जी और कांकेर में दोनों ही दलों ने नए उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा है।

राज्य की 29 आदिवासी बहुल सीटों में 13 इन्हीं इलाकों में: प्रदेश में सबसे ज्यादा सीटें एसटी वर्ग के प्रभाव में हैं। कुल 90 में से 29 सीटें एसटी वर्ग के लिए आरक्षित हैं। इसमें से 11 बस्तर संभाग में ही हैं। दो सीटें राजनांदगांव में आती हैं। इन पर छत्तीसगढ़ गठन से पहले भी हमेशा से कांग्रेस की जबरदस्त पकड़ रही। छत्तीसगढ़ बनने के बाद भाजपा ने दो बार यहां कांग्रेस को पछाड़ा, लेकिन 2013 में कांग्रेस ने इन इलाकों में वापसी की। ऐसे में इस बार के चुनाव में पहले चरण की सीटें निर्णायक साबित हो सकती हैं।

 

मोदी ने एक और राहुल ने तीन सभाएं कीं : भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राजधानी में पार्टी का घोषणा-पत्र जारी किया। उन्होंने राजनांदगांव में मुख्यमंत्री रमन सिंह के लिए रोड शो किया। इधर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बस्तर में 3 सभाएं और रोड शो किया। पार्टी का घोषणा पत्र भी जारी किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जगदलपुर में एक सभा की।

WhatsApp chat