कुंभ मेले में योगी कैबिनेट की बैठक, उत्तराखंड बनने के बाद पहली बार लखनऊ से बाहर मीटिंग

 

  • बैठक में भगवान राम की मूर्ति के लिए जमीन समेत 8 प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर
  • मुख्यमंत्री और मंत्री संगम में स्नान और साधु-संतों से मुलाकात करेंगे

प्रयागराज. उत्तरप्रदेश की योगी सरकार आज प्रयागराज स्थित कुंभ मेले में कैबिनेट बैठक होनी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रयागराज पहुंचकर सबसे पहले लेटे हनुमान की पूजा-अर्चना की। उत्तराखंड के अलग होने (2000) के बाद यह पहला मौका है, जब राज्य में कैबिनेट बैठक राजधानी लखनऊ से बाहर होगी। इससे पहले 1962 में गोविंद वल्लभ पंत के शासन में एक बार प्रदेश कैबिनेट की मीटिंग नैनीताल में हुई थी।

कुंभ मेले में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की 31 जनवरी और 1 फरवरी को धर्म संसद होनी है। यहां से विहिप राम मंदिर निर्माण को लेकर अगली रणनीति तैयार करेगी। माना जा रहा है योगी सरकार कैबिनेट बैठक में राम मंदिर निर्माण के संबंध में कोई बड़ा ऐलान कर सकती है।

पूरी कैबिनेट लगाएगी आस्था की डुबकी
बैठक के बाद योगी और उनके सभी मंत्री संगम में स्नान करेंगे। योगी और उनके मंत्री अखाड़ा परिषद के सभी प्रमुख संतों से मुलाकात करेंगे। मुख्यमंत्री कुंभ नगरी में करीब पांच घंटे रहेंगे। मेला प्राधिकरण ने सरस्वती कूप और अक्षयवट का दर्शन आम श्रद्धालुओं के लिए दोपहर 12 बजे तक बंद कर दिया है।

बैठक में नहीं शामिल होंगे राजभर
प्रदेश के दिव्यांग कल्याण मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर प्रयागराज के कुंभनगर में आयोजित कैबिनेट बैठक से किनारा कर लिया। वह इस बैठक में शामिल नहीं होंगे। राजभर सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू न होने से नाराज हैं। उन्होंने इसके लिए प्रदेश सरकार को सौ दिन का अल्टीमेटम दिया था।

इन प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर

  • उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक फिल्म को यूपी में टैक्स फ्री किया जाएगा।
  • अयोध्या में भगवान राम की मूर्ति लगाने के लिए जमीन अधिग्रहण का प्रस्ताव पास हो सकता है।
  • फरवरी माह में पेश होने वाले आम बजट के लिए प्रस्ताव पास हो सकता है।
  • उत्तर प्रदेश कृषि उत्पादन मंडी अधिनियम 1964 के 21वें संशोधन के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए नियमावली बनाने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश कृषि उत्पादन मंडी अधिनियम 1965 को संशोधित किए जाने के संबंध में प्रस्ताव पेश होगा।

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat