बंसत पंचमी पर तीसरे शाही स्नान की तैयारियां शुरू

7,935 total views, 1 views today

 

  • अखाड़ा परिषद ने 10 फरवरी को तीसरे शाही स्नान के बहिष्कार की सूचना का खंडन किया
  • 15 दिसम्बर 2018 को 70 देशों के राजनयिक पहुंचे थे प्रयाग

प्रयागराज. मकर संक्रांति और मौनी अमावस्या के बाद अब मेला प्रशासन बसंत पंचमी (10 फरवरी) पर तीसरे शाही स्नान की तैयारियों में जुट गया है। इधर, मेला प्रशासन ने अखाड़ा परिषद द्वारा के सुरक्षा संबंधी आवश्यक सुझावों को शामिल करते हुए व्यवस्थाओं को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया। वहीं, 22 फरवरी को प्रयागराज में 200 देशों के एक-एक प्रतिनिधि संगम स्नान करने पहुंचेंगे।

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावेडकर 8 फरवरी को प्रयागराज आयेंगे। स्थानीय कार्यक्रमों में भाग लेंगे। इसके बाद संगम में स्नान करेंगे। हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल 10 फरवरी प्रयागराज आएंगे। वे कुम्भ मेला क्षेत्र में भ्रमण कर संगम में स्नान करेंगे।

कुंभ के मेलाधिकारी विजय किरण आनंद ने कहा कि बसत पंचमी पर अमावस्या की तुलना में दस प्रतिशत कम भीड़ आने की उम्मीद है। लेकिन, प्रशासन अपनी तरफ से तैयारियों में जुटा है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि महाराज ने प्रशासन से सुरक्षा संबंधी व्यवस्थाओं को और दुरुस्त करने का सुझाव दिया है। उन्होंने मीडिया में आई शाही स्नान के बहिष्कार की अफवाह का खंडन किया। नरेंद्र गिरि महाराज ने आगामी शाही स्नान के साथ कुम्भ पर्व के सकुशल सम्पन्न होने की कामना भी की है।

200 देशों के प्रतिनिधि आएंगे : कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह की ओर से जारी बयान में बताया गया कि 22 फरवरी को 200 देशों के एक-एक प्रतिनिधि प्रयागराज में कुम्भ मेला भ्रमण के लिए आएंगे। इनके स्वागत और विदाई के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह को नामित किया है। इससे पहले गत 15 दिसम्बर 2018 को 70 देशों के राजनयिक प्रयागराज पहुंचे थे। इनके स्वागत और विदाई के लिए प्रदेश सरकार की ओर से सिंह को नामित किया गया था। 24 जनवरी को प्रयागराज में 3200 प्रवासियों ने भ्रमण के बाद संगम स्नान किया था।

Loading...