प्रियंका की स्ट्रैटजी: नेताओं से सवाल- सपा-बसपा गठबंधन का भाजपा पर क्या असर पड़ेगा?

 

  • महासचिव बनने के बाद प्रियंका उत्तर प्रदेश के पहले दौरे पर, नेताओं से 12 सवाल पूछ रहीं
  • प्रियंका का सवाल- सपा-बसपा गठबंधन से अलग रहकर क्या कांग्रेस चुनाव लड़ने की स्थिति में है?

लखनऊ (आदित्य तिवारी). प्रियंका गांधी कांग्रेस महासचिव बनने के बाद अपने पहले उत्तर प्रदेश दौरे पर हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें उत्तर प्रदेश की 41 लोकसभा सीटों की जिम्मेदारी सौंपी है। प्रियंका हर जिले के कार्यकर्ताओं से मिल रही हैं। पहले दिन ही प्रियंका ने 16 घंटे बैठक की। बैठक के दौरान प्रियंका कार्यकर्ताओं से 12 सवाल कर रही हैं। वे ये प्रमुखता से पूछ रही हैं कि उत्तर प्रदेश की लोकसभा सीटों के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच हुए गठबंधन से भाजपा के प्रदर्शन पर क्या असर पड़ने वाला है? भास्कर प्लस ऐप ने प्रियंका की स्ट्रैटजी जानने की कोशिश की…।

प्रियंका पदाधिकारियों-कार्यकर्ताओं से पूछ रहीं ये 12 सवाल

    1. सपा-बसपा के गठबंधन का भाजपा पर कितना असर पड़ेगा? क्या हम गठबंधन से अलग रहकर चुनाव लड़ने की स्थिति में हैं?
    2. आपकी लोकसभा सीट पर कौन-सा प्रत्याशी सही रहेगा?
    3. क्या आपको आपकी बूथ संख्या पता है?
    4. आपके जिले में कितने ब्लॉक हैं?
    5. आपकी सीट पर जातीय समीकरण कितना है?
    6. आपके जिले में सबसे ज्यादा किस जाति के लोग हैं?
    7. आपके बूथ पर कांग्रेस को आखिर चुनाव में कितने वोट मिले थे?
    8. आपके क्षेत्र में महिला विंग कितनी एक्टिव है? कितनी महिलाएं एक कार्यक्रम में आ जाती हैं?
    9. युवाओं के प्रति आपके क्षेत्र में कांग्रेस का क्या मैसेज है?
    10. आपको जिले में प्रदेश संगठन की तरफ से कितना सपोर्ट मिलता है?
    11. जिला अध्यक्ष स्तर पर आखिरी बैठक किस तारीख को थी?
    12. कांग्रेस का आखिरी प्रदर्शन-कार्यक्रम कब हुआ था?
  1. सदस्यों से प्रियंका पूछ रहीं उनके काम करने का तरीका

    प्रियंका का सबसे पहले हर जिले के नेताओं से परिचय कराया जा रहा है। इसके बाद वे जिला अध्यक्ष से उनकी कमेटी के सदस्यों की संख्या और बैठकें करने के उनके तरीकों पर सवाल कर रही हैं।

  2. डायरी में हर व्यक्ति का नाम नोट कर रहीं

    प्रियंका नेताओं से खुशमिजाज तरीके से मिल रही हैं। उनके चेहरे पर कोई तनाव दिखने की बजाय मुस्कराहट रहती है। जिस भी नेता की बातचीत में प्रियंका को दम लग रहा है, उसका नाम वे अपनी पर्सनल डायरी में नोट कर रही हैं। वे संगठन और प्रत्याशी के बीच कांग्रेस को और मजबूत करने को लेकर चर्चा कर रही हैं।

  3. सीटों पर सपा-बसपा की ताकत के बारे में चर्चा

    प्रियंका से मुलाकात के बाद पूर्व सांसद अन्नू टंडन ने बताया कि प्रियंका जी का अंदाज बहुत ही अलग है। वे मीटिंग में मौजूद हर व्यक्ति-पदाधिकारी से डिटेल में बात कर रही हैं। उन्होंने हमसे मुलाकात में जाना कि उत्तर प्रदेश में पार्टी संगठन में अब तक क्या काम होता था और उसे करने का तरीका क्या था? जिला अध्यक्ष सूर्य नारायण यादव ने बताया कि हमसे सपा-बसपा के गठबंधन के बारे में पूछा गया। इसके बाद पूछा गया कि क्या हम गठबंधन से अलग रहकर चुनाव लड़ने की स्थिति में हैं? इस पर हमने कहा कि हम उन्नाव की सीट आपको हर हाल में जीतकर देंगे। इसके बाद पूर्व प्रदेश सचिव राज कुमार लोधी ने बताया कि बसपा उन्नाव में बिल्कुल मजबूत नहीं है।

  4. हर बूथ मजबूत करने का संदेश

    पूर्व सांसद अन्नू टंडन के मुताबिक, प्रियंका ने नेताओं से कहा है कि मुझे हर बूथ मजबूत करना है और हर बूथ जीतना है। यही वजह है कि वे नेताओं-कार्यकर्ताओं से उनसे बूथ के बारे में सवाल कर रही हैं।

  5. एक-दूसरे की पोल खोलने में लगे रहे कांग्रेसी

    प्रियंका के सामने कांग्रेस कार्यकर्ता एक-दूसरे की पोल खोलने में लगे रहे। एक जिला अध्यक्ष अपना बूथ नहीं बता पाए। प्रियंका के पूछने पर बगलें झांकने लगे। कई कार्यकर्ता भी अपना बूथ नहीं बता पाए। कई नेता इस सवाल का जवाब भी नहीं दे पाए कि कांग्रेस ने उनके जिले में आखिरी कार्यक्रम कब किया था।

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat