आधी रात ‘किसान घाट’ पर खत्म हुई किसान क्रांति पदयात्रा

गाजियाबाद – केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ पहले दौर की वार्ता विफल हो जाने के बाद यूपी गेट पर डेरा डाले करीब तीस हजार किसानों को मंगलवार देर रात एक बजे दिल्ली पुलिस ने महात्मा गांधी की समाधि राजघाट जाने की इजाजत दे दी। यूपी गेट पर लगाए गए बैरिकेड हटा लिए गए। बुधवार रात को तकरीबन एक बजे के आसपास किसान अपने ट्रैक्टर और पुलिस की बसों में भरकर किसान घाट के लिए रवाना हुए। इसके बाद किसान देर रात राजघाट होते हुए ‘किसान घाट’ पहुंचे, जहां किसान क्रांति पदयात्रा को समाप्त कर दिया गया।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का कहना है कि सरकार ने किसानों की सभी मुख्य मांगों की अनदेखी की है। आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला।

जानकारी के मुताबिक, बड़ी संख्या में किसान दिल्ली के ‘किसान घाट’ पहुंचकर वहां पर कुछ देर रुके और बुधवार सुबह चार बजे के बाद वापस यूपी की ओर लौटने लगे। बताया जा रहा है कि दिल्ली से सभी किसान सुबह 6 बजे तक यूपी के लिए लौट चुके थे। अब किसान गाजियाबाद के रास्ते वापस अपने-अपने घरों को लौट रहे हैं।

पूर्वी दिल्ली में दिल्ली-यूपी गेट (नोएडा से दिल्ली की ओर जाने वाली रोड) मंगलवार को किसान क्रांति पदयात्रा के दौरान पुलिस और किसानों के बीच झड़प हुई थी। इसके बाद पुलिस ने बहुत से ट्रैक्टरों की हवा निकाल दी थी। बुधवार को भी ट्रैक्टर ट्रॉली यही खड़े हैं। पुलिस ने इस रोड को बंद किया हुआ है। किसानों का कहना है कि प्रशासन ट्रैक्टरों को सही करवाकर दे, तभी सड़कों से ट्रैक्टर हटेंगे।

वहीं, इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन (BKU) के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने किसान क्रांति पदयात्रा को लेकर कहा कि 23 सितंबर को शुरू हुई किसान क्रांति पदयात्रा को दिल्ली में किसान घाट पर समाप्त किया जाना था। उन्होंने दिल्ली पुलिस को घेरते हुए कहा कि पहले हमें दिल्ली में प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी, जिसका हमने विरोध किया। हमारा लक्ष्य केवल यात्रा को पूरा करना था जो हमने पूरा कर लिया है। अब हम लोग अपने गांव वापस लौट जाएंगे।

गाजियाबाद में बुधवार को स्कूल बंद
किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए गाजियाबाद के जिलाधिकारी ने बुधवार को जिले के सभी स्कूल कॉलेजों बंद रखने का आदेश दिया है। इसके साथ ही पुलिस और प्रशासन को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह अलर्ट कर दिया गया है। किसान क्रांति पदयात्रा खत्म होने के बाद आंदोलनकारी दिल्ली से वापस यूपी और उत्तरखंड वापस लौट रहे हैं, ऐसे में गाजियाबाद में बुधवार को भी तमाम रास्ते जाम रह सकते हैं।

40 किसान और 7 पुलिसवाले घायल
इससे पहले दिन में यूपी गेट पर दिल्ली पुलिस के साथ तगड़ी झड़प हुई। किसानों ने ट्रैक्टर चढ़ाकर बैरिकेड तोड़ दिए। उन्हें रोकने के लिए दिल्ली पुलिस को बल प्रयोग करन पड़ा और रबर बुलेट और आंसू गैस के गोले छोडऩे पड़े। झाडिय़ों से दिल्ली में घुसने का प्रयास कर रहे किसानों पर लाठियां भी भांजीं। इस दौरान 10 किसान गंभीर घायल हो गए, जबकि 30 अन्य को मामूली चोट आई। दिल्ली पुलिस के एक एसीपी समेत सात पुलिसकर्मी भी गंभीर रूप से घायल हो गए।

भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने इस बारे में कहा कि 23 सितंबर को शुरू हुई किसान क्रांति पदयात्रा को दिल्ली में किसान घाट पर समाप्त किया जाना था। हालांकि दिल्ली पुलिस ने पहले हमे दिल्ली में एंट्री करने की इजाजत नहीं दी, जिसका हमने विरोध किया। हमारा लक्ष्य केवल यात्रा को पूरा करना था जो हमने पूरा कर लिया है। अब हम लोग अपने गांव वापस लौट जाएंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat