इमरान खान ने कहा- पुलवामा की घटना में हमारा हाथ नहीं; भारत ने हमला किया तो हम भी जवाब देंगे

 

  • पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा- हम स्थिरता चाहते हैं, ऐसे में हमला करने से हमें क्या फायदा होगा?
  • इमरान के बयान से कुछ देर पहले भारतीय सेना ने कहा था- पुलवामा हमले में पाक सेना का हाथ है
  • इमरान ने कहा- हम हर तरह की जांच और बातचीत के लिए राजी, जंग शुरू हुई तो पता नहीं कहां जाकर खत्म होगी

इस्लामाबाद. प्रधानमंत्री इमरान खान ने पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ होने से साफ इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि अगर भारत ने हमला किया तो इसका करार जवाब दिया जाएगा। हम स्थिरता चाहते हैं, ऐसे में हमले की साजिश क्यों रचेंगे?

उन्होंने यह भी कहा- हम दहशतगर्दी पर भी बात करने को तैयार हैं। भारत सोचे कि कश्मीर के युवा मरने-मारने पर क्यों उतर आए? इमरान के बयान से पहले ही भारतीय सेना ने कहा था- पुलवामा हमले में पाक सेना का हाथ है। 14 फरवरी को पुलवामा के लेथपोरा में हुए फिदायीन हमले में भारत के 40 जवान शहीद हो गए थे। 18 फरवरी को सुरक्षा बलों ने हमले के मास्टरमाइंड कामरान को पुलवामा के पिंगलेना में मार गिराया।

‘सऊदी के क्राउन प्रिंस के दौरे की वजह से जवाब नहीं दे पाया’

इमरान ने कहा कि हमारे यहां सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस का दौरा था। इसलिए अब तक जवाब नहीं दिया। हम उनका दौरा लंबे वक्त से तय कर रहे थे। ऐसे में हम क्यों हमले की प्लानिंग करते? इससे हमें क्या फायदा है? आतंकवाद से पाकिस्तान को 100 अरब डॉलर का नुकसान हो चुका है। इसके चलते हमारे यहां 70 हजार लोगों की जान जा चुकी है।

‘नया पाकिस्तान दहशतगर्दी की तरफ क्यों जाएगा’

पाक प्रधानमंत्री ने कहा कि जब पाकिस्तान स्थायित्व की तरफ जा रहा है, तब हम क्यों दहशतगर्दी की तरफ जाएंगे? मैं भारत सरकार से कहना चाहता हूं कि आप बार-बार पाक को क्यों जिम्मेदार बताते रहेंगे। हम स्टेबिलिटी चाहते हैं। हमारा अब नया पाकिस्तान है। आप किसी भी तरह की जांच कराना चाहते है तो हमें बताएं। हम एक्शन लेंगे। ये इसलिए लेंगे क्योंकि अगर कोई पाकिस्तान की जमीन इस्तेमाल कर रहा है तो कार्रवाई होगी।

‘कोई सबूत हो तो हमें दें’
इमरान ने कहा, “मैं भारत से कहता हूं कि आपके पास कोई सबूत है तो मैं गारंटी देता हूं कि हम कार्रवाई करेंगे। ऐसा किसी के दबाव में नहीं कर रहे। हम आतंकवाद पर बात करने के लिए तैयार है। हम इससे सबसे ज्यादा परेशान हैं। कश्मीर के युवा इस हद तक उतर चुके हैं, कोई तो वजह होगी।”

उन्होंने यह भी कहा, “आपके इलेक्शन का टाइम है। अगर आप समझते हैं कि पाकिस्तान पर किसी तरह का हमला करेंगे। तो पाकिस्तान रिटेलिएट (जवाबी कार्रवाई) करेगा। हम सब जानते हैं कि जंग शुरू करना इंसान का काम है, लेकिन खत्म करना नहीं। ये किस तरफ जाएगा, ये तो अल्लाह ही जानता है। ये मसला अफगानिस्तान की तरह बातचीत से ही हल होगा।”

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat