भोपाल में शीतलहर के साथ सीवियर कोल्ड डे, स्कूलों में 5वीं तक दो दिन छुट् टी, चार दिन बाद और बढ़ेगी ठंड

 

  • सीवियर कोल्ड डे… भोपाल, इंदौर, मलाजखंड  सिवनी, श्योपुर
  • दिन का पारा सामान्य से 4.50 गिर जाए तो कोल्ड डे और 6.5 डिग्री से कम हो तो सीवियर कोल्ड डे होता है। दोनों स्थिति में रात में तापमान 100 से कम होना चाहिए।

भोपाल . प्रदेश में भोपाल सहित 13 शहर शीतलहर की चपेट में हैं। राजधानी में लगातार दूसरे दिन सोमवार को सीवियर कोल्ड डे रहा।  रविवार रात नए साल की सबसे सर्द रात रही। तापमान 6.4 डिग्री पर पहुंच गया। यह सामान्य से 5 डिग्री कम रहा। सोमवार को दिन में पारा 19.3 डिग्री पर रहा। कलेक्टर सुदाम पी खाडे ने नर्सरी से पांचवीं क्लास तक स्कूलों में दो दिन तक छुट्‌टी के आदेश जारी कर दिए हैं। साथ ही सुबह 9 बजे के बाद 6वीं से 12वी तक की कक्षाओं को लगाने को कहा है।

आज खिली है धूप: पूरे प्रदेश में मंगलवार की सुबह से मौसम साफ है व धूप खिली है। लेकिन हवाएं ठिठुरन पैदा कर रही हैं। मौसम विभाग के अनुसार उत्तर भारत से आ रही बर्फीली हवाओं के कारण राज्य में ठिठुरन बढ़ी है और तापमान में भी गिरावट आई है। कई स्थानों का तापमान तीन डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। सबसे ठंडा उमरिया रहा, जहां तापमान 2.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भोपाल का न्यूनतम तापमान 4.8 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 5.6, ग्वालियर का 3.8 और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 4.4 सेल्सियस दर्ज किया गया।

इन 9 शहरों में पाले जैसे हालात, पारा 3-4 डिग्री के इर्द- गिर्द  रहा : बैतूल, दतिया, नौगांव और खजुराहो में रात का तापमान 3 डिग्री के आसपास दर्ज किया गया। गुना,  सागर, दमोह, रतलाम, और शाजापुर में रात में पारा 4 डिग्री के इर्द- गिर्द पहुंच गया। इन सभी नौ शहरों में पाले जैसे हालात रहे।

समझें क्या होता है पाला और इससे फसलों का क्या नुकसान : जब तापमान 4 डिग्री या उससे कम हो तो पानी जमने लगता है। इसे पाला पड़ना या ग्राउंड फ्रास्ट कहते हैं। ऐसे हालात में पौधे के अंदर का पानी कम तापमान कम होने से जम जाता है । इससे पौधे के स्टोमेटा यानी रोम छिद्र भोज्य पदार्थ बनाने की प्रक्रिया कम या खत्म कर देते हैं। इस वजह से पौधे का जीवन तक समाप्त हो जाता है। – डॉ एमएस परिहार, प्रमुख वैज्ञानिक फल अनुसंधान केंद्र, ईटखेड़ी

 

2 दिन बाद दिन में थोड़ी राहत, लेकिन शीतलहर चलती रहेगी : मौसम केंद्र के अनुसार 31 जनवरी से दिन के तापमान में 2 से 3 डिग्री तक इजाफा हो सकता है। 2 फरवरी से तापमान में और कमी आएगी एवं शीतलहर की स्थिति भी बनने की संभावना है। इस दौरान कई शहरों में पाला भी पड़ सकता है।

 

बर्फीली हवा की यह है वजह : मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि उत्तर भारत में बर्फबारी के बाद वहां बर्फ पिघली है। उसके बाद वहां से बर्फीली हवा आ रही है। इस वजह से हमारे यहां रात के तापमान में गिरावट हुई।   इस वजह से भोपाल, ग्वालियर, गुना, खजुराहो, शाजापुर, रतलाम, धार, खंडवा, राजगढ़, बैतूल, दमोह, सागर, नौगांव शीतलहर की चपेट में हैं।

 

दतिया 2.60 प्रदेश में सबसे ठंडा शहर 

 

बैतूल    3.5 डिग्री सेल्सीयस
जबलपुर    3.0  डिग्री सेल्सीयस
नौगांव    3.1  डिग्री सेल्सीयस
शाजापुर    4.0  डिग्री सेल्सीयस
गुना     4.2  डिग्री सेल्सीयस
दमोह    4.4  डिग्री सेल्सीयस
धार    4.8  डिग्री सेल्सीयस
श्योपुर    5.0  डिग्री सेल्सीयस
राजगढ़    5.2  डिग्री सेल्सीयस

 

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat