जेडीएस के दो नेताओं समेत 6 भारतीयों की मौत: मृतक संख्या 290 हुई

 

  • श्रीलंका में रविवार को ईस्टर के मौके पर चर्चों और होटलों में 8 धमाके हुए थे
  • कर्नाटक के सीएम कुमारस्वामी ने कहा- जेडीएस के 7 नेताओं का दल कोलंबो गया था, 2 नेता लापता
  • बाद में 2 नेताओं हनुमंतारायप्पा और रंगप्पा के हमलों में मारे जाने की पुष्टि हुई, अब तक 24 संदिग्ध गिरफ्तार

कोलंबो. श्रीलंका में रविवार को चर्चों और होटलों में धमाके से मरने वालों की संख्या 290 पहुंच गई है। मृतकों में जेडीएस के दो नेताओं समेत छह भारतीय शामिल हैं। कुल 33 विदेशी नागरिकों के मारे जाने की पुष्ट हुई है। 500 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं। पुलिस के मुताबिक, इस मामले में अब तक 24 संदिग्धाें को गिरफ्तार किया जा चुका है। रविवार देर रात को छानबीन के दौरान पुलिस को कोलंबो एयरपोर्ट के पास पाइप बम मिला। छह फीट लंबे इस बम को एयरफोर्स ने सफलतापूर्वक डिफ्यूज कर लिया। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, एक देसी बम एयरपोर्ट टर्मिनल जाने वाली सड़क के किनारे मिला। यह कितना खतरनाक था इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसके पाइप में ऊपर तक बारूद भरा था।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने भी कहा था कि जेडीएस के सात नेताओं का दल कोलंबो गया था इनमें से दो लापता हैं। बाद में 2 नेताओं हनुमंतारायप्पा और रंगप्पा के हमलों में मारे जाने की पुष्टि हुई।

स्थानीय स्तर पर बना था बम

एयरफोर्स के प्रवक्ता ग्रुप कैप्टन गिहान सेनेविरत्ने ने बताया कि आईडी स्थानीय स्तर पर बना था। बम के मिलने के बाद एयरपोर्ट जाने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। श्रीलंका की एयरलाइन कंपनियों ने भी कड़ी सुरक्षा जांच के चलते यात्रियों को फ्लाइट के उड़ान भरने से चार घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचने के निर्देश जारी कर दिए।

प्रधानमंत्री मोदी ने की निंदा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फोन पर श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना और पीएम रानिल विक्रमसिंघे से बात की। साथ ही ट्वीट कर घटना की कड़ी निंदा की। मोदी ने कहा कि हमारे क्षेत्र में बर्बरता के लिए कोई जगह नहीं है। भारत श्रीलंका के लोगों के साथ मजबूती से खड़ा है। उन्होंने मृतकों और घायलों के परिवारों के साथ संवेदना जताई।

भारतीय दूतावास ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए

+94777903082, +94112422788,+94112422789, +94112422789

कोलंबो में हुआ था पहला धमाका
पहला धमाका कोलंबो के कोच्चिकड़े स्थित सेंट एंथनी चर्च में हुआ, इसके बाद नेगोंबो के कटुवपिटिया स्थित सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टीकलोआ स्थित चर्च में धमाके हुए। इनके अलावा कोलंबो के फाइव स्टार होटलों शांगरी ला, किंग्सबरी और सिनेमन ग्रैंड में भी ब्लास्ट हुए। आठ में से शुरुआती छह धमाके लगभग एक ही समय पर सुबह 8:45 बजे हुए। बाकी दो धमाके दोपहर में दो से ढाई बजे के बीच कोलंबो में हुए।

पुलिस प्रमुख ने 10 दिन पहले दी थी चेतावनी

श्रीलंका के पुलिस प्रमुख पुजुत जयसुंदरा ने 11 अप्रैल को चेतावनी देते हुए कहा था, ‘‘एक विदेशी खुफिया एजेंसी ने कहा है कि नेशनल थोहीथ जमात (एनटीजे) देश के प्रमुख चर्चों और कोलंबो के भारतीय उच्चायोग पर आत्मघाती हमले की साजिश रच रहा है।’’

कट्टरपंथी संगठन है एनटीजे
एनटीजे श्रीलंका का कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन है। यह पिछले साल उस वक्त चर्चा में आया था जब उसने बुद्ध की मूर्तियों को तोड़ा था।

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat