हिमाचल में 10 साल बाद पारा -17 डिग्री पहुंचा, बर्फबारी से मैदानी इलाकों में ठिठुरन बढ़ी

 

  • केलॉन्ग में न्यूनतम तापमान 31 जनवरी, 2008 को 18 डिग्री तक गिरा था
  • कश्मीर और हिमाचल में बर्फबारी का दौर जारी, मैदानी इलाकों में ठिठुरन बढ़ी
  • लद्दाख का द्रास देश में सबसे ठंडा रहा, यहां अधिकतम तापमान भी माइनस 10 डिग्री

कश्मीर, हिमाचल समेत पहाड़ी राज्यों में रविवार को भी बर्फबारी हुई। हिमाचल प्रदेश में 350 से ज्यादा सड़कें बंद हैं। लाहौल स्पीति के केलॉन्ग में पारा जनवरी में 10 साल बाद सबसे कम माइनस 17 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। उधर, लद्दाख का द्रास देश में सबसे ठंडा रहा। यहां सबसे कम तापमान माइनस 28.7 रिकॉर्ड किया गया।

मौसम विभाग के मुताबिक, केलॉन्ग में पारा सामान्य से 7 डिग्री सेल्सियस नीचे है। इससे पहले यहां 31 जनवरी, 2008 को पारा 18.5 डिग्री तक गिर गया था। हिमाचल के अलग-अलग इलाकों में अगले 24 घंटों में भारी बर्फबारी की चेतावनी जारी की गई। मनाली में पारा माइनस 5, कुफरी में माइनस 4.2, डलहौजी में माइनस 1.5, शिमला में माइनस 0.2 डिग्री सेल्सियस रहा।

लद्दाख का द्रास देश में सबसे ठंडा

जम्मू-कश्मीर के द्रास में न्यूनतम तापमान 28.7 डिग्री सेल्सियस रहा। यहां अधिकतम तापमान भी शून्य से 10.1 डिग्री नीचे है। श्रीनगर में पारा माइनस 1.4, पहलगाम में माइनस 13, गुलमर्ग में माइनस 12, लेह में माइनस 15.5 और करगिल में माइनस 20.7 डिग्री सेल्सियम दर्ज हुआ। मौसम विभाग ने बताया कि राज्य में न्यूनतम तापमान में और गिरावट आने की संभावना है।

मध्यप्रदेश में हल्की बौछारों का अनुमान

पहाड़ों पर हुई बर्फबारी का असर मैदानी राज्यों में देखने को मिल रहा है। मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तरप्रदेश में सर्द हवाओं से ठिठुरन बढ़ गई। रविवार को मध्यप्रदेश में धार सबसे ठंडा रहा। यहां तापमान 4.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने अगले 2 दिनों में कुछ स्थानों पर हल्की बौछारें पड़ने का अनुमान जताया है।

दिल्ली में और बढ़ेगी ठंड

उधर, दिल्ली-एनसीआर में न्यूनतम तापमान 5 डिग्री के आसपास बना हुआ है। इसके दो तीन दिन में और गिरने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक, सोमवार को दिल्ली में घना कोहरा नजर आ सकता है। हवा की गुणवत्ता भी खराब स्तर पर है। एक्यूआई 218 दर्ज किया गया।

(राष्ट्रीय संभव सन्देश के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए Click यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और यूट्यूब पर फ़ाॅलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp chat