आईआईटी रुड़की और हिंदी हाउस द्वारा आजोजित परवाज़ में देश के कवियों ने बाँधा समां

आईआईटी रुड़की द्वारा आयोजित लिटरेचर एंड आर्ट्स फेस्टिवल 2019 का समापन बहुत शानदार हुआ।
हिंदी हाउस और आईआईटी रुड़की द्वारा आयोजित लिट् नाईट में परवाज़  ए पोएट्री इवनिंग कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पदमश्री डॉ कुँवर बेचैन जी थे। युवा कलमकारों को प्रोत्साहन करने पंहुचे देश के नामी कवियो में दिल्ली से नमीता नमन, दिल्ली से आफताब आलम, अंजलि अरोड़ा शामिल रहे।
विभिन्न शहरों से आये कलमकारों ने आईआईटी रुड़की का मंच साझा करते हुए हिंदी हाउस को इस कार्यक्रम के लिए धन्यवाद दिया और हिंदी हाउस के कार्यक्रम की सराहना की। युवा कवियों में रूपेंद्र सिंह, लक्ष्मी बिमला नेगी, शुऐशा, प्रतीक, विपिन तिवारी, अंकुश श्रीवास्तव मौजूद रहे।
कश्मीर से आई नूपुर संधु, समझौता पुस्तक के लेखक आशीष कश्यप और पंजाब से आईं लेखिका सिमरनजीत कौर ने आईआइटियन्स के साथ अपने विचार साझा किया।
दिल्ली से आये संगीत शिरोमणि से सम्मानित हो चुके राजा सिंह ने अपनी ज़ोरदार परफॉरमेंस से ऐसा माहौल जमाया की सभी लोग झूमने पर मजबूर हो गए।
आईआईटी रुड़की की लिटरेचर टीम प्रशश्त श्रीवास्तव, रूची शर्मा, कनिष्क मलेटिया ने हिंदी हाउस के साथ एक केके ऑर्गनाइज़र के रूप में इस कार्यक्रम की सराहना की और बताया कि हम आगे भी मिलकर एक साथ युवाओं को प्रोत्साहन करने हेतु कार्यक्रम करते रहेंगे।
हिंदी हाउस ने बीती रात में हुए कार्यक्रम में युवा कलमकारों को प्रकाशित करने के उद्देश्य से  अपनी ई मंथली मैगज़ीन ” लिटेरिया इनसाइट'” का प्रेलॉंच भी किया जिसके एडिटर इन चीफ नीतीश राज हैं।
साथ ही हिंदी हाउस ने आईआईटी रुड़की और आईआइटियन्स के साथ इस कार्यक्रम को सफल बनाने में तहे दिल से धन्यवाद दिया।

WhatsApp chat