” कौन हो तुम ”

8,476 total views, 1 views today

यह कौन
मुँह अँधेरे
लिखने लगता है
सुरमयी सुबह
यह कौन
सुनहरी शाम की गवाही में
स्याह उड़ेल देता है आकाश में
और अँधेरी रात लिखता है
कभी
बिखरा जाता है उजियारा
और चाँदनी रात की शीतलता लिखता है
उह कौन
पहाड़ों के खुरदुरे शरीर से
बहा लाता है निर्मल जलधारा
और नदी लिखता है
यह कौन
मीलों तक फैलाता है
वृक्षों की श्रृखंला
और जंगल बियाबान लिखता है
यह कौन
सिद्धहस्त घुड़सवार की तरह
चढ़ता है सूरज के घोड़े में
पलक झपकते क्षणों में अर्द्धवृत्त खींचता है
और इन्द्रधनुष लिखता है
यह कौन
बादलों का पंख बन जाता है
उड़ता/तैरता है
और गर्जना के साथ बारिश की बूंदे लिखता है
यह कौन
किसान के पसीने को
धरती के भीतर सोखता है
और बारिश में मिश्रण कर
लहलहाती फसल लिखता है
यह कौन
फूलों को रन-बिरंगे परिधान बाँटता है
और पलाश/गुलाब/मोंगरे की
महकती सुगंध लिखता है
यह कौन
बाँस के फूल से अनुबंध कर
कर्णप्रिय संगीत बिखेरता है
और बाँसुरी लिखता है
#सुधीर कुमार सोनी #

Loading...