Breaking News

दिल्ली में कोरोना के 3594 केस सामने आए, करीब 4 माह में सबसे ज्यादा मामले

Delhi Corona Active Cases :दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि फिलहाल लॉकडाउन की आशंका नहीं है.दिल्ली में 2 अप्रैल 2021 को कोरोना के 4 दिसंबर के बाद सबसे ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए हैं.

नई दिल्ली: Delhi Corona cases Today :दिल्ली में भले ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने फिलहाल लॉकडाउन की संभावना से इनकार किया हो, लेकिन दिल्ली कोरोना के मामले लगातार बढ़़ते ही जा रहे हैं. शुक्रवार को पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3594 केस सामने आए हैं. ये करीब 4 माह में सबसे ज्यादा मामलों का रिकॉर्ड है. दिल्ली में 2 अप्रैल 2021 को कोरोना के 4 दिसंबर के बाद सबसे ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए हैं. दिल्ली में कोरोना के एक्टिव केस भी लगातार बढ़ रहे हैं.

4 दिसंबर 2020 को एक दिन में 4067 नए मामले सामने आए थे. पिछले 24 घंटों में 14 मरीजों की मौत हुई है, जो 12 जनवरी के बाद सबसे ज्यादा हैं. 12 जनवरी 2021 को एक दिन में 16 मरीजों की मौत हुई थी. दिल्ली में एक्टिव मरीजों की संख्या करीब 12,000 पहुंची, 17 जनवरी के बाद सबसे ज्यादा है. राजधानी में संक्रमण दर 4% के पार पहुंच गई है.
दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 4.11% तक पहुंच गया है. जबकि पिछले 24 घंटे में नए मामले 3594 हो गए हैं. अब तक कुल 6,68,814 मामले हैं. पिछले 24 घंटे में 2084 मरीज ठीक हुए हैं. अब तक कुल 6,45,770 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं. पिछले 24 घंटे में 14 लोगों की मौत हुई है. अब तक कुल 11,050 मरीजों की मौत कोरोना के कारण हुई है. एक्टिव मामले 11,994 हैं. पिछले 24 घंटों में 87,505 टेस्ट हुए हैं. अब तक कुल 1,47,41,240 टेस्ट हुए हैं.

बहरहाल, देश की राजधानी मेंकोरोना के बढ़ते मामलों के बीच मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने कहा है कि दिल्‍ली में फिलहाल लॉकडाउन (Delhi Lockdown) की जरूरत नहीं है. उन्‍होंने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो इस बारे में दिल्‍ली के लोगों की सलाह लेकर कोई फैसला किया जाएगा.प्रेस कॉन्‍फ्रेंस मे सीएम केजरीवाल ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं और देश में भी बढ़ रहे हैं.

उन्‍होंने कहा कि 16 मार्च को दिल्ली में 425 केस थे और आज 3583 केस हैं. दिल्ली के लिए चौथी वेव है. इस वाली तेज़ी में देखने को मिल रहा है कि बहुत तेजी से मामले बढ़ रहे हैं लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है सरकार ने स्थिति पर नजर रखी हुई है और जो भी जरूरत होगी सरकार कदम उठाएगी.