बकरियां चराने वाली 13 साल की बच्ची मैदान में जमकर लगा रही है चौके छक्के, इंटरनेट पर वायरल हो रही है वीडियो

बकरियां चराने वाली 13 साल की बच्ची मैदान में जमकर लगा रही है चौके छक्के, इंटरनेट पर वायरल हो रही है वीडियो

आज के समय में हर क्षेत्र में लड़कियां लड़कों के कदम से कदम मिलाकर चलती नजर आ रही है। क्रिकेट के मामले में भी लड़कियां लड़कों से कम नहीं है। कुछ समय पहले ही क्रिकेट की वूमेन इंडिया टीम ने पाकिस्तान को हराकर इंडिया को गौरवान्वित किया है। आपको बता दें कि इन दिनों इंटरनेट पर ऐसी ही एक दिग्गज वीमेन क्रिकेट खिलाड़ी सामने आई है। इस लड़की के लाजवाब प्रदर्शन को देखकर लोग दंग हैं। बता दें कि एक छोटे से गांव की 13 साल की लड़की मूमल को क्रिकेट का ऐसा जुनून है कि बैट पर आने वाली हर बॉल हमेशा चौके छक्के में तब्दील हो जाती है। अपने चौकों छक्कों से मूमल मैदान में अन्य खिलाड़ियों को धूल चटा देती है। आपको बता दें कि मूमल राजस्थान के बाड़मेर जिले के शिव शेरपुरा के कानासर की रहने वाली है।

rajasthan-mumal-cricket-video-went-viral

इन दिनों इंटरनेट पर मूमल की वीडियो जमकर वायरल हो रही है। मूमल की धुआंधार बल्लेबाजी लोगों को हैरान कर रही है। मूमल मेहर के खेलने के लिए पैरों में जूते भी नहीं है। मगर अपने जबरदस्त अंदाज से 13 साल की बेटी मूमल मेहर लोगों का दिल जीत रही है। कानासर गांव के किसान मठार खान की 13 साल की इस बेटी को क्रिकेट का जुनून है। आपको बता दें कि मूमल के दो भाई और सात बहने हैं। परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। जिसके चलते मूमल मेहर में टैलेंट होते हुए भी उसके परिवार वाले उसे क्रिकेट की सही ट्रेनिग नहीं दिला पा रहे हैं। लेकिन गांव के स्कूल के कोच रोशन खान मूमल मेहर को क्रिकेट की बारीकियों के बारे में बताते हैं। आपको बता दे कि वह रोज दिन में तीन चार घंटे की प्रैक्टिस करती हैं। क्रिकेट खेलने के साथ पढ़ाई भी करती है। और इसके अलावा घर की कामो में वह अपनी माँ का हाथ भी बटाती है। घर की बकरियां भी चराती हैं।

rajasthan-mumal-cricket-video-went-viral

रोजाना करती हैं 4 घंटे प्रैक्टिस

मूमल मेहर के कोच रोशन ने बताया कि मूमल को क्रिकेट का बहुत जबरदस्त जुनून है। वह रोजाना सुबह 7 बजे से 9 बजे तक और शाम के 4 बजे से 6 बजे तक क्रिकेट की प्रैक्टिस करती है। रोहन ने बताया राजस्थान के मुख्यमंत्री के द्वारा प्रारंभ की गई ग्रामीण ओलंपिक में मूमल का अच्छा प्रदर्शन रहा था। सेमीफाइनल मैच में वह 25 रन बनाकर नाबाद रही थी। उसने चार मैच में 7 विकेट भी लिए. फील्डिंग में भी उसने कई रन बचाए। लेकिन फाइनल में उसकी टीम हार गई। मूमल मेहर ने बताया कि, वह इंडिया के लिए खेलना चाहती हैं। मेहर ने बताया कि, ‘हमारे गांव की क्रिकेटर अनीशा है और वह मेरी चचेरी बहन है। वह मुझे क्रिकेट के टिप्स बताती है। मनीषा और मैंने ग्रामीण ओलंपिक में साथ खेला था’। मूमल ने बताया कि, ‘जब भी मौका मिलता है तभी स्कूल से बाहर मैदान में क्रिकेट खेलती हूं’। उन्हें क्रिकेट से इतना प्यार है कि वह लड़कों के साथ भी क्रिकेट खेलती रहती है।

यह भी पढ़े: बाल विवाह होने के बाद इंस्पेक्टर बन गर्व से ऊंचा किया अपने मां-बाप का सर, जानिए हेमलता की प्रेरणादायक कहानी