एक नहीं, बल्कि दो दिन मनेगा दशहरा- जाने क्या है वजह

इस वर्ष दशहरे को लेकर संशय की स्थिति है। तिथियों के घटने-बढ़ने के चलते कहीं यह पर्व 18 तो कहीं 19 अक्टूबर को मनाया जाएगा।

ज्योतिर्विदों के मुताबिक नवमी युक्त दशमी के दिन यानी 18 अक्टूबर को दशहरा मनाना शास्त्र सम्मत है। हालांकि मतांतर के चलते उदया तिथि में दशमी और सरकारी छुट्टी के चलते 19 अक्टूबर को शहर में रावण दहन के आयोजन होंगे।

ज्योतिर्विद् पं. सोमेश्वर जोशी से बताया कि नवमी तिथि 17 अक्टूबर को दोपहर 12.49 बजे से शुरू होगी, जो 18 अक्टूबर को दोपहर 3.28 बजे तक रहेगी। इसके बाद दशमी तिथि शुरू हो जाएगी, जो 19 अक्टूबर को शाम 5.57 बजे तक रहेगी। प्राचीन श्रीधरशिवलाल पंचांग में अष्टमी और नवमी बुधवार को है।

समें विजयदशमी के बारे में उल्लेख है कि विजय मुहूर्त लिए सबसे महत्वपूर्ण है, अपरा- काल, दशमी तिथि, श्रवण नक्षत्र, जो कि केवल गुरुवार को रात्रि 12.44 बजे तक ही रहेगा। पं. देवेश्वर जोशी ने निर्णय सिंधु का उल्लेख करते हुए बताया कि शस्त्र पूजन अपरा- काल में किया जाता है और रावण दहन सूर्यास्त के पहले। इसलिए दशहरा गुरुवार को मनाना शास्त्र सम्मत है।

देश के कई हिस्सों में दशहरा 18 अक्टूबर को, जबकि अन्य कई हिस्सों में 19 अक्टूबर को मनाया जाएगा। 18 अक्टूबर को राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, पंजाब में पर्व मनाया जाएगा। 19 अक्टूबर को दशहरा उत्तर प्रदेश, बिहार, ओडिशा, छत्तीसगढ़ में मनाया जाएगा। कई शहरों में उदया तिथि में दशमी 19 को होने चलते अधिकांश रावण दहन के आयोजन 19 अक्टूबर को होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat