आइए जानते हैं भगवान गणेश के 8 स्वरूप और उनके महत्व के बारे में…

 

 

शिव और पार्वती के पुत्र गणेश जी जीवन की समस्याओं को हल करने में सबसे आगे रहते हैं. इसलिए इनकी पूजा सबसे पहले की जाती है. हालांकि इनके अनंत नाम और अनगिनत स्वरूप हैं, परन्तु इनके आठ स्वरूप विशेष रूप से ऐसे हैं, जो किसी भी व्यक्ति की कमजोरियों को दूर करते हैं. अगर ये कमजोरियां दूर हो जाएं तो व्यक्ति जीवन में हर प्रकार से उन्नति कर सकता है. यहां तक कि ईश्वर की उपलब्धि भी.

कौन से हैं भगवान गणेश के आठ अवतार और किन कमजोरियों को ये दूर करते हैं?

1. भगवान गणेश  के अनेक स्वरूपों में उपासना की परंपरा है. मुद्गल पुराण के अनुसार भगवान गणेश के अनेक अवतार हैं, जिनमें आठ अवतार प्रमुख हैं.

2. हर अवतार का महत्व अलग-अलग असुरों के नाश के लिए हुआ था और इनकी अलग-अलग उपासना करने से मनुष्य अपनी मन की अलग-अलग वृत्तियों पर नियंत्रण पा सकता है.

3. पहला स्वरूप वक्रतुंड का है. इस स्वरूप में श्री गणेश जी ने मत्सरासुर का अहंकार भंग किया था.

4. दूसरा स्वरूप एकदंत का है. इस स्वरूप में उन्होंने मदासुर को पराजित किया था.

5. तीसरा स्वरूप महोदर का है, जिसमें श्री गणेश ने मोहासुर का गर्व भंग किया था. यह ज्ञान का स्वरूप भी है.

6. चौथा स्वरूप गजानन का है, इसमें प्रभु ने लोभासुर का अहंकार भंग किया था. यह स्वरूप सांख्य स्वरूप है.

7. पांचवें लम्बोदर स्वरूप में श्री गणेश ने क्रोधासुर को परास्त किया था. यह स्वरूप शक्ति का स्वरूप है.

8. छठवे श्री गणेश का नाम विकट है, इसमें उन्होंने कामासुर को परास्त किया था यह सौर का स्वरूप है.

9. सातवां स्वरूप विघ्नराज का है. इस स्वरूप में उन्होंने ममतासुर का अहंकार नष्ट किया था. यह श्री विष्णु का स्वरूप है.

10. आठवां स्वरूप धूम्रवर्ण का है, जिसमें उन्होंने अहंतासुर को परास्त किया था. यह शिव का स्वरूप है.

कैसे करें इन स्वरूपों की उपासना?

1. आप के अन्दर जिस भी तरह की कमजोरी है, उस कमजोरी को समाप्त करने वाले भगवान गणपति की उपासना करें.

2. नियमित रूप से भगवान के सामने घी का दीपक जलाएं, उन्हें दूब और मोदक अर्पित करें.

3. भगवान गणेश के मन्त्रों का जाप करें और फिर कपूर से आरती करें.

4. ये प्रयोग रोज या तो बिल्कुल प्रातः करें या दोपहर में करें.

5. आहार और वाणी पर संयम रखें.

WhatsApp chat