आज है शीतला अष्टमी, जानें क्यों चढ़ाया जाता है माता को बासी प्रसाद

होली के आठवें दिन शीतला अष्टमी की पूजा की जाती है. शीतला सप्तमी या अष्टमी का व्रत चैत्र महीने के कृष्ण पक्ष की सप्तमी और अष्टमी तिथि को किया जाता है. इस साल यह व्रत 27 और 28 मार्च को रखा जा रहा है. इस दिन लोग शीतला माता का व्रत रखकर उनकी पूजा करते हैं. पूजा करने के बाद भक्त मां शीतला को ठंडा बासी प्रसाद का भोग लगाते हैं. आइए जानते हैं आखिर माता शीतला को उनके भक्त बासी प्रसाद का भोग क्यों लगाते हैं.

होली के आठवें दिन शीतला अष्टमी की पूजा की जाती है. शीतला सप्तमी या अष्टमी का व्रत चैत्र महीने के कृष्ण पक्ष की सप्तमी और अष्टमी तिथि को किया जाता है. इस साल यह व्रत 27 और 28 मार्च को रखा जा रहा है. इस दिन लोग शीतला माता का व्रत रखकर उनकी पूजा करते हैं. पूजा करने के बाद भक्त मां शीतला को ठंडा बासी प्रसाद का भोग लगाते हैं. आइए जानते हैं आखिर माता शीतला को उनके भक्त बासी प्रसाद का भोग क्यों लगाते हैं.

हिंदू धर्म के अनुसार हर उपवास को खोलते समय भगवान को शुद्ध ताजा बने प्रसाद का भोग लगाने का नियम है. लेकिन ये नियम माता शीतला के व्रत में लागू नहीं होता है. इस दिन लोग अपने घरों में ताजा भोजन नहीं बनाते हैं. इस दिन ठंडा भोजन खाए जाने का रिवाज है.

धार्मिक कारण

शीतला अष्टमी के दिन बासी प्रसाद का भोग लगाने के पीछे कहा जाता है कि माता शीतला को ठंड़ा भोजन अति प्रिय है. धार्मिक मान्यता के अनुसार माता शीतला के नाम का मतलब है ठंडा. यही वजह है कि लोग शीतला देवी को प्रसन्न करने के लिए उन्हें ठंडी चीजों का भोग लगाते हैं.

उत्तर भारत में शीतला सप्तमी या अष्टमी के व्रत को बसौड़ा नाम से भी जाना जाता है. ऐसा इसलिए भी है क्योंकि इस दिन के बाद लोग बासी भोजन ग्रहण करना बंद कर देते हैं. ऐसा माना जाता है कि ये दिन इस ऋतु का अंतिम दिन होता है जब व्यक्ति बासी खाना खा सकता है.

माना जाता है कि शीतला देवी का व्रत करने से शीतला देवी प्रसन्‍न होती हैं. जिसकी वजह से फोडे, नेत्रों के समस्त रोग और शीतला से होने वाले दोष दूर हो जाते हैं. शीतला माता बच्चों की सेहत की रक्षा करती हैं. साथ ही धन दौलत का अंबार भर देती हैं.

शीतला माता देवी की तरह होती हैं, जो गर्दभ यानी गधे पर सवार होती हैं. उनके हाथ में झाड़ू होती है. नीम के पत्तों को जेवर की तरह पहने होती हैं. उनके एक हाथ में शीतल यानी ठंडे जल का कलश भी होता है. माता साफ़ सफाई, स्वस्थ्य जीवन और शीतलता की प्रतीक हैं.

शीतला अष्टमी में शीतला माता की ऐसे पूजा करें-

– इस दिन से ठंडे पानी से स्नान शुरू होता है, क्योंकि सूर्य एक दम सीधे ऊपर आ जाने से गर्मी बढ़ जाती है.

– इस दिन गंगाजल डालकर स्नान करें. नारंगी वस्त्र पहनें.

– दोपहर 12 बजे शीतला मंदिर जाकर माता की पूजा करें.

– माता को सुगंधित फूल, नीम के पत्तों और सुगंधित इत्र डालकर पूजा करें.

– शीतला माता को ठंडे या बासी खाने का भोग लगाएं.

– कपूर जलाकर आरती करें.

– ॐ शीतला मात्रै नमः मंत्र का जाप करें.

बासी खाने का महत्व-

– शीतला अष्टमी के दिन घर में ठंडा और बासी खाना खाया जाता है. इस दिन सुबह के समय घर में चूल्हा नहीं जलाते हैं. इस दिन थोड़ा नीम की पत्तियां भी खानी चाहिए.

– इस दिन ठंडा बासी पुआ, पूरी, दाल भात, मिठाई का माता को भोग लगाकर खाया जाता है.

– खाने से पहले भोजन दान भी करना चाहिए.

WhatsApp chat